क्षेत्र को मजबूत, ज्यादा समृद्ध बनाएगा क्वाड : ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री मॉरिसन

09/25/2021 11:00:09 AM

वाशिंगटन, 25 सितंबर (भाषा) ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने कहा कि चार लोकतांत्रिक देशों - ऑस्ट्रेलिया, भारत, जापान और अमेरिका का अनौपचारिक समूह - क्वाड का गठन क्षेत्र को ज्यादा मजबूत, ज्यादा समृद्ध और ज्यादा स्थिर बनाने के लिए किया गया है। मॉरिसन ने इसे ''सकारात्मक'' पहल करार देते हुए कहा कि इसे रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लोगों की भलाई के लिए बनाया गया है। मॉरिसन ने शुक्रवार को यहां पहली आमने-सामने की क्वाड शिखर वार्ता के समापन के बाद व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, “क्वाड एक भागीदार है। क्वाड एक भागीदार है चाहे वह चीन के लिए हो या किसी अन्य देश के लिए जो हिंद-प्रशांत क्षेत्र में है। हम इस क्षेत्र को मजबूत, अधिक समृद्ध, अधिक स्थिर बनाने के लिए हैं। यह हिंद-प्रशांत के लोगों की भलाई के लिए तैयार की गई एक सकारात्मक पहल है।’’ राष्ट्रपति जो बाइडन की मेजबानी में हुई क्वाड शिखर वार्ता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी एवं ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष योशिहिदे सुगा और मॉरिसन शामिल हुए थे।

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री ने नेताओं को साथ लाने के लिए बाइडन का शुक्रिया करते हुए कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री मोदी और प्रधानमंत्री सुगा के साथ बात करने मौका मिला। उन्होंने सुगा को, “उनके देश का बेहतरीन नेता होने के लिए” भी शुक्रिया किया।

कोविड-19 पर, मॉरिसन ने कहा कि यह सिर्फ टीके प्राप्त करने के बारे में नहीं है,बल्कि इस चुनौती से निपटने की रणनीति पर है।

उन्होंने कहा, “सुरक्षा के बारे में हमारी चर्चा अफगानिस्तान के मुद्दे के साथ शुरू हुई, और विशेष रूप से इस बात पर ध्यान केंद्रित किया गया कि हम कैसे उन लोगों की मदद करना जारी रख सकते हैं जो अफगानिस्तान छोड़ना चाहते हैं, और हमारे मानवीय कार्यक्रमों का हिस्सा बन सकते हैं और तालिबान को यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार ठहराते हैं कि वे सुरक्षित रूप से निकल सकें ... और यह सुनिश्चित करना कि हम अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान पर दबाव बनाए रखें कि वे अपनी प्रतिबद्धताओं पर खरा उतरें।” मॉरिसन ने कहा कि मोटे तौर पर, जब जलवायु की बात आती है, तो वास्तव में संकल्प की भावना थी, न कि केवल ''अगर-मगर’ के बारे में।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Recommended News