अफगानिस्तान में तालिबान का खौफ, 4 महीनों में  36,000 परिवारों ने किया पलायन

2021-07-24T14:05:04.147

काबुलः अफगानिस्तान में तालिबान आंतकियों की हिंसा के कारण देश के लोग दहशत में हैं। सुरक्षा बलों और अफगानी जनता पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं  जिसके मद्देनजर पिछले चार महीनों में 36,000 से अधिक परिवार आंतरिक रूप से विस्थापित हुए हैं। तालिबान लड़ाकों द्वारा देश में तेजी से कब्जा किया जा रहा है। वहीं युद्धग्रस्त देश अफगान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर सुरक्षा चिंताओं के बढ़ने पर अफगानिस्तान में मानवीय संकट की संभावना भी प्रबल हो गई है। वहीं अफगानिस्तान में असुरक्षा तथा हिंसा के कारण जनवरी से अब तक करीब 2 लाख 70 हजार से अधिक लोग विस्थापित हो चुके हैं। 

अमेरिका के बाइडेन प्रशासन ने अप्रैल में कहा था कि इस साल के सितंबर तक वह अपनी सेना को वापस बुला लेगा लेकिन अब लगता है कि एक माह पहले ही अगस्त के अंत तक अमेरिकी सैनिकों की वापसी पूरी हो जाएगी। इस बीच तालिबान ने देश के अधिकांश हिस्सों पर कब्जा शुरू कर दिया है। टोलो न्यूज के अनुसार इन हालात के चलते अधिकांश विस्थापित लोग आवास और आधारभूत जरूरतों की तलाश में भटक रहे हैं। ऐसे में काबुल के एक मकान में पांच परिवार दिन बिताने को मजबूर हैं। ये सभी उत्तरी प्रांत के कुंदुज में जारी तनाव के कारण विस्थापित हुए हैं। इनका कहना है कि मानवीय सहायता की इन्हें काफी जरूरत है।

कुंदुज निवासी जिबा ने कहा कि हालिया संघर्ष में इसने अपने कई बच्चों को खो दिया और यह चौथी बार है जब वो विस्थापित हुई है। जिबा ने बताया, 'हमने खुशियों वाले दिन नहीं देखे हमेशा तनाव भरे दिनों से ही सामना हुआ है।' संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी संबंधी मामलों की एजेंसी के अनुसार अफगानिस्तान में असुरक्षा तथा हिंसा के कारण जनवरी से अब तक करीब 2,70,000 लोग विस्थापित हुए हैं। एजेंसी ने तालिबान लड़ाकों द्वारा बड़ी संख्या में क्षेत्रों पर तेजी से कब्जा करने और युद्धग्रस्त देश से अमेरिकी सैनिकों की वापसी पर सुरक्षा चिंताओं के बढ़ने पर अफगानिस्तान में एक आसन्न मानवीय संकट को लेकर आगाह किया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Recommended News