इस मंदिर की छत पर सुशोभित छिपकलियों के स्पर्श मात्र से धुल जाते हैं सारे पाप!

punjabkesari.in Monday, Jun 06, 2022 - 05:18 PM (IST)

शास्त्रों की बात जानें, धर्म के साथ 
हमारे देश में जगह-जगह मंदिर स्थापित है, जो अपनी किसी न किसी खास विशेषता के चलते देश में प्रसिद्ध है। आज हम आपको ऐसे ही कुछ मंदिरों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। इसी कड़ी में बात करते हैं पांच मंदिरों के समूह की जो राजस्थान के सिरोही जिले के माऊंट आबू में स्थित मंदिर की। हर मंदिर अपने आप में अद्वितीय है। इनका निर्माण 11वीं और 13वीं शताब्दी के बीच हुआ था। ये संगमरमर के अद्भुत उपयोग के लिए प्रसिद्ध हैं। पांच मंदिर हैं - विमल वसाही, लूना वसाही, पित्तल हर मंदिर, पाश्र्वनाथ और महावीर स्वामी मंदिर। ये दुनिया के सबसे सुंदर जैन तीर्थ स्थल माने जाते हैं जो जैन धर्म के तीर्थंकरों को समर्पित हैं। मंदिरों के लगभग 48 स्तम्भों में नृत्यांगनाओं की आकृतियां बनी हुई हैं। दिलवाड़ा के मंदिर और मूर्तियां मंदिर निर्माण कला के उत्कृष्ट उदाहरण हैं। इस मंदिर में आदिनाथ की मूर्ति की आंखें असली हीरे की बनी हैं तथा इनके गले में बहुमूल्य रत्नों का हार है। मंदिरों में तीर्थंकर के साथ-साथ हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमाएं भी स्थापित हैं। मंदिरों के सुंदर प्रवेश द्वार हैं। यहां वास्तुकला की सादगी जैन मूल्यों जैसे ईमानदारी और मितव्ययिता को भी दर्शाती है।
PunjabKesari Mount Abu, Mount Abu Rajasthan, Mount Abu Rajasthan Mandir, Mount Abu Rajasthan Temple, Dharmik Sthal, Religious place in india, Dharm
वरदराज पेरुमल मंदिर
तमिलनाडु का यह प्रमुख मंदिर भगवान विष्णु के पवित्र शहर कांचीपुरम में स्थित है। माना जाता है कि विष्णु जी के 108 मंदिरों का 12 कवि संतों या अलवारों ने भ्रमण किया था, जिनमें से यह भी एक दिव्य देशम है। यह भी माना जाता है कि मंदिर की छत को सुशोभित करने वाली छिपकलियों की मूर्तियों के स्पर्श मात्र से ही आपके पिछले जीवन के सारे पाप धुल जाते हैं।
PunjabKesari, Varadaraja Perumal Temple, Dharmik Sthal, Religious place in india, Dharm
बादामी गुफा मंदिर
यह कर्नाटक के उत्तरी भाग में बगलकोट जिले के बादामी शहर में स्थित मंदिरों का एक परिसर है। इन्हें भारतीय रॉक-कट वास्तुकला, खासकर बादामी चालुक्य वास्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण माना जाता है। बादामी को पहले वातापी बादामी के नाम से जाना जाता था, जो प्रारंभिक चालुक्य वंश की राजधानी थी। बादामी एक मानव निर्मित झील के पश्चिमी तट पर स्थित है जो पत्थर की सीढिय़ों के साथ एक दीवार से घिरा है, यह बाद के समय में निर्मित किलों द्वारा उत्तर और दक्षिण में घिरा हुआ है।
PunjabKesari Badami Cave Temple, Dharmik Sthal, Religious place in india, Dharm


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News