सपने में आए ‘कान्हा’, मुस्लिम भक्त ने मंदिर बना डाला

punjabkesari.in Thursday, Mar 03, 2022 - 09:43 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Parth sarthi mandir: इन दिनों झारखंड के दुमका में साम्प्रदायिक सौहार्द का एक दिल छूने वाला मामला देखने को मिल रहा है। यहां के रानीश्वर में हामिदपुर के एक मुस्लिम शख्स लगभग 40 लाख रुपए की लागत से भगवान श्री कृष्ण का मंदिर बनवा रहे हैं।

PunjabKesari Parth sarthi temple

भगवान श्री कृष्ण का ‘पार्थ सारथी मंदिर’ इन दिनों इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है तो इसकी वजह मुस्लिम शख्स नौशाद शेख हैं जो रानीश्वर के उप प्रमुख हैं। उन्होंने साल 2019 में इस मंदिर का निर्माण कार्य शुरू करवाया था।

PunjabKesari Parth sarthi temple

वह बताते हैं कि एक बार वह पश्चिम बंगाल के मायापुर नामक स्थान पर घूमने गए थे। इस दौरान उनके सपने में भगवान श्री कृष्ण आए थे। प्रभु ने उनसे कहा था कि वह तो उनके इलाके में स्वयं विराजमान हैं। वह यहां क्यों घूमने आए हैं? तब श्री कृष्ण ने उनसे सपने में कहा था कि वहीं पहुंचो।

PunjabKesari Parth sarthi temple

इसके बाद नौशाद ने लौट कर पार्थ सारथी मंदिर बनवाने के बारे में सोचा। नौशाद ने बताया कि पहले यहां खुले आसमान के नीचे भगवान की पूजा होती थी। इसके बाद उन्होंने स्वयं मंदिर बनवाने के बारे में सोचा।

PunjabKesari Parth sarthi temple

नौशाद मंदिर बनवाने से लेकर उसके समस्त अनुष्ठान का आयोजन भी खुद ही करेंगे। उनका कहना है कि इस्लाम धर्म में दीन-दुखियों की सेवा करने के बारे में कहा गया है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि हर धर्म की इज्जत करें।

PunjabKesari Parth sarthi temple

सभी धर्मों में ऐसी ही बातें कही गई हैं। सभी धर्म के जो धार्मिक कार्य हैं, उनमें भाग लेना चाहिए, ताकि एक सामाजिक-धार्मिक सौहार्द और भाईचारे का माहौल बना रहे।वह कहते हैं, ‘‘मैं भले ही इस्लाम का पाबंद हूं लेकिन मुझे हिन्दू धर्म में भी गहरी आस्था है। मेरी आस्था वर्षों से यहां स्थापित भगवान पार्थ सारथी के प्रति रही है।’’

PunjabKesari Parth sarthi temple

गांव वाले बताते हैं कि करीब 300 साल पहले बंगाल के हेतमपुर एस्टेट के राज परिवार ने प्रभु पार्थ सारथी की पूजा मिट्टी की प्रतिमा बनाकर शुरू की थी।यह इलाका उसी एस्टेट के अंदर आता था लेकिन जमींदारी प्रथा के उन्मूलन के बाद यह बंद हो गया था।

PunjabKesari Parth sarthi temple

1980 के दशक में रानीश्वर के प्रमुख मो. कादिर ने यहां पूजा फिर शुरू कराई। नौशाद की इस पहल से गांव के हिन्दू व मुस्लिम समाज के लोग खुश हैं।

PunjabKesari Parth sarthi temple

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News