Niti Gyan: आधुनिक युग में भी अनेक गुण हैं

punjabkesari.in Wednesday, Nov 30, 2022 - 03:50 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
वरिष्ठ नागरिकों (बुजुर्गों) का न केवल उनके परिवार में बल्कि समाज में भी बहुत बड़ा योगदान है। वे न केवल कई समस्याओं का समाधान करते हैं बल्कि अपने जीवन के अनुभव को परिवार और समाज के साथ साझा करके दूसरों के लिए प्रेरणा का स्रोत भी बनते हैं। लेकिन आमतौर पर यह देखा गया है कि ज्यादातर वरिष्ठ नागरिक सेवानिवृत्ति के बाद के जीवन को एक पड़ाव के रूप में देखते हैं। इस तरह वे समझते हैं कि जीवन अब अंत में है। ऐसे वरिष्ठों से अनुरोध है कि वे कभी भी जीवन से सेवानिवृत्ति न लें, भले ही वे नौकरी से सेवानिवृत्त हो गए हों। उनके लिए संदेश है "उठो, दौड़ो, दौड़ो, मरने से पहले हार मत मानो।"

सबसे पहले अपने बुढ़ापे के लिए कुछ पैसे बचाएं ताकि शारीरिक निर्भरता के साथ-साथ बच्चों पर आर्थिक निर्भरता न बढ़े। जितना हो सके अपना काम खुद करें। अगर आपको इस बात की चिंता है कि शारीरिक बीमारी के मामले में उनकी देखभाल कौन करेगा, तो यह सारी चिंता भगवान पर छोड़ दें। जिसने तुम्हें बनाया है, उसने तुम्हारे लिए सब कुछ सोचा है। बच्चों के साथ कदम से कदम मिलाकर चलें, उनकी रुचियों और आधुनिक जीवनशैली से मुंह न मोड़ें।

हमेशा अपनी उम्र का गुणगान मत करो। आधुनिक युग में भी अनेक गुण हैं। अपनी पुरानी सोच को बदलो, अगर आपने उनका पालन-पोषण किया है, उन्हें शिक्षित किया है और उन्हें अपने पैरों पर खड़ा किया है, तो उनसे बदलने की उम्मीद न करें। आपका कर्तव्य था। बच्चे भी अपने बच्चों को वास्तविक शक्ति से पढ़ा रहे हैं। आपसे बेहतर पालन-पोषण कर रहे हैं। आपके बच्चे भी बुद्धिमान और अच्छे हैं। उन्हें अपने फैसले खुद करने दें। सलाह तभी दें जब वे इसके लिए पूछें।
 

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें
PunjabKesari

बिना किसी कारण के उन पर अपने अधिकार का दावा न करें क्योंकि आपने उन्हें उठाया है। आजकल माता-पिता की अपने बच्चों पर निर्भरता कम होती जा रही है। हर कोई अपने बुढ़ापे के लिए बचत करता है। अपने बच्चों से अच्छे संबंध बनाने के लिए उनसे प्यार करें। छुट्टियों में उन्हें उपहार दें। आपका कर्तव्य न केवल प्राप्त करना है, बल्कि देना भी है। यदि आप सक्षम हैं, तो जियो और जीने दो के सिद्धांत का पालन करें। तभी आप समाज, परिवार से हर समय शिकायत करने की प्रवृत्ति को दूर कर सकते हैं। 

जब हम स्वार्थी होते हैं, तो हम पीड़ित होते हैं। बच्चों से अपेक्षा न करें। उन्हें अपना जीवन अपने तरीके से जीने दें। जिस तरह हम अपने दोस्तों से उम्मीद नहीं करते हैं, उसी तरह अगर उनका व्यवहार हमें सूट नहीं करता है तो हमें दुख नहीं होता है। दुख होता है जब हम सोचते हैं कि हमने उनके लिए बहुत कुछ किया है लेकिन तब तक नहीं जब तक वे हमसे नहीं पूछते। ऐसा सोचकर हम उदास हो जाते हैं और दुनिया को नकारात्मक नजरिए से देखने लगते हैं। अगर आप अपना नजरिया सुधार लेंगे तो आप दुनिया को अपने हिसाब से बना पाएंगे।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News