वृंदावन में है ये रहस्यमयी जगह, जिसे रात में देखने से इंसान हो जाता है पागल

punjabkesari.in Tuesday, Nov 29, 2022 - 09:34 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Mystery of Nidhivan: भारत में कई ऐसी जगहें हैं, जो अपने दामन में कई रहस्य समेटे हुए हैं। उनमें से ऐसा ही एक स्थान है उत्तर प्रदेश का वृंदावन स्थित निधि वन, जिसके बारे में मान्यता है कि यहां आज भी हर रात कृष्ण गोपियों संग रास रचाते हैं।

PunjabKesari Mystery of Nidhivan

यही कारण है कि सुबह खुलने वाले निधिवन को संध्या आरती के पश्चात बंद कर दिया जाता है। उसके बाद वहां कोई नहीं रहता, यहां तक कि निधिवन में दिन में रहने वाले पशु-पक्षी भी संध्या होते ही निधि वन को छोड़कर चले जाते हैं।

PunjabKesari Mystery of Nidhivan

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

PunjabKesari Mystery of Nidhivan

What happens at night in Nidhivan जो भी देखता है रासलीला हो जाता है पागल
वैसे तो शाम होते ही निधि वन बंद हो जाता है और सब लोग यहां से चले जाते हैं लेकिन फिर भी यदि कोई छुपकर रासलीला देखने की कोशिश करता है तो पागल हो जाता है।

PunjabKesari Mystery of Nidhivan

ऐसा ही एक वाक्या करीब 10 वर्ष पूर्व हुआ था, जब जयपुर से आया एक कृष्ण भक्त रासलीला देखने के लिए निधिवन में छुपकर बैठ गया। जब सुबह निधि वन के गेट खुले तो वह बेहोश अवस्था में मिला, उसका मानसिक संतुलन बिगड़ चुका था। ऐसे कई किस्से यहां के लोग बताते हैं।

PunjabKesari Mystery of Nidhivan

Nidhivan at night रंगमहल में सजती है सेज
निधि वन के अंदर ही है ‘रंग महल’ जिसके बारे में मान्यता है कि रोज रात यहां पर राधा और कन्हैया आते हैं। रंग महल में राधा और कन्हैया के लिए रखे गए चंदन के पलंग को शाम सात बजे से पहले सजा दिया जाता है।

PunjabKesari Mystery of Nidhivan

पलंग के बगल में एक लोटा पानी, राधा जी के शृंगार का सामान और दातुन संग पान रख दिया जाता है। सुबह पांच बजे जब ‘रंग महल का पट खुलता है तो बिस्तर अस्त-व्यस्त, लोटा पानी से खाली, दातुन कुचली हुई और पान खाया हुआ मिलता है। रंग महल में भक्त केवल श्रृंगार का सामान ही चढ़ाते हैं और प्रसाद स्वरूप उन्हें भी शृंगार का ही सामान मिलता है।

PunjabKesari Mystery of Nidhivan
Nidhivan vrindavan story तुलसी के पेड़ बनते हैं गोपियां
निधि वन की एक अन्य खासियत यहां के तुलसी के पेड़ हैं। निधि वन में तुलसी का हर पेड़ जोड़े में है। इसके पीछे यह मान्यता है कि जब राधा संग कृष्ण वन में रास रचाते हैं, तब यही जोड़ेदार पेड़ गोपियां बन जाते हैं। जैसे ही सुबह होती है तो सब फिर तुलसी के पेड़ में बदल जाते हैं। साथ ही एक अन्य मान्यता यह भी है कि इस वन में लगे जोड़े की वन तुलसी की कोई भी एक डंडी नहीं ले जा सकता। लोग बताते हैं कि जो लोग भी ले गए वे किसी न किसी आपदा का शिकार हो गए इसलिए कोई भी इन्हें नहीं छूता।

True story of Nidhivan मकानों में नहीं हैं खिड़कियां
वन के आसपास बने मकानों में खिड़कियां नहीं हैं। यहां के निवासी बताते हैं कि शाम 7 बजे के बाद कोई इस वन की तरफ नहीं देखता। जिन लोगों ने देखने का प्रयास किया या तो अंधे हो गए या फिर उनके ऊपर दैवी आपदा आ गई।

PunjabKesari kundli


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News