Motivational Concept: अपना मार्ग खुद बनाएं तभी मिलेगी सफलता

punjabkesari.in Tuesday, May 03, 2022 - 12:13 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
लंदन में एंजेलेना नामक एक महिला रहती थी। उसकी आर्थिक हालत अच्छी नहीं थी। एक दिन उसने बड़ी मुश्किल से दो ब्रैड अपने बच्चे के लिए जुटा कर रखे और माथे पर हाथ रखकर बैठ गई, ‘‘हाय! मैं कितनी गरीब हूं। बेटे को भरपूर भोजन भी नहीं करा सकती।’’ 

तभी अचानक उसके दरवाजे पर एक भिखारी आया और बोला, ‘‘मैडम! चार दिन से भूखा हूं। खाने के लिए कुछ हो तो दे दो, भगवान भला करेगा।’’

यह सुनकर एंजेलेना रसोई में गई और उसने एक ब्रैड उठाया ही था कि उसके मन में ख्याल आया कि उस भूखे भिखारी का पेट एक ब्रैड से तो भरेगा नहीं, अत: उसने दोनों ब्रैड उठाए और भिखारी को देते हुए कहा, ‘‘लो बाबा! मेरे पास आपके खाने के लिए केवल इतना ही है।’’

इतना कहकर उसे मन में अपार संतोष हुआ और वह भूल गई कि उसने अपने पुत्र का निवाला भिखारी को दे दिया है। सच्चाई यही है कि आज के आपाधापी के युग में भी ऐसे ही व्यक्ति उन्नति के पथ पर आगे बढ़ पाते हैं, जो देने की प्रवृत्ति रखते हैं। अत: देने की प्रवृत्ति विकसित करें और लेने का भाव छोड़ दें। उन्नति के मार्ग पर आगे बढ़ो लेकिन किसी दूसरे का मार्ग अवरुद्ध करके या किसी के सिर पर अपने पैर रखकर आसमान को छूने की कोशिश मत करो। जो लोग अपना मार्ग खुद तलाश करते हैं, ईश्वर भी उन्हीं की सहायता करता है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News