ये है देश का एकलौता ऐसा मंदिर, जहां विराजमान है हनुमान जी का पुत्र

punjabkesari.in Friday, Apr 29, 2022 - 06:22 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
रामायण को हिंदू धर्म का बेहद पवित्र ग्रंथ माना जाता है, जिसके प्रमुख पात्र श्री राम, लक्ष्मण जी, माता सीता, रावण व विभिषण आदि इन सभी से लगभग हर कोई वाकिफ होता ही है, लेकिन आज हम बात जिस पात्र की बात करने जा रहे हैं उसके बारे में उसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। दरअसल हम बात कर रहे हैं, मकरध्वज की जिसका नाम कुछ ही लोगों ने सुना होगा। रामायण के अनुसार मकरध्वज जी का जन्म हनुमान जी के पसीने की बूंद से हुआ था। जिस कारण इन्हें बजरंगबली के पुत्र का दर्जा प्राप्त है। बताया जाता है पूरे भारत में इनका एक ही मंदिर है, जो ग्वालियर में स्थित है। 500 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस मंदिर का इतिहास बेहद पुराना होने के साथ-साथ दिलचस्प भी है। कहा जाता है इस मंदिर से पाताल को रास्ता जाता है। तो आईए जानते हैं घने जंगलों व ऊंची पहाड़ियों में स्थित इस मंदिर के बारे में- 
PunjabKesari makardhwaj temple gwalior, makardhwaj temple, Lord hanuman, Lord Hanuman Son makardhwaj, makardhwaj, Dharmik Sthal, Religious lPlace in India, Hindu Teerth Sthal, Dharm
बता दें यह प्राचीन मंदिर ग्वालियर के करहिया क्षेत्र के जंगलों में स्थित है जो कि प्राकृतिक गुफाओं से परिपूर्ण है। लोक मान्यता के अनुसार यहां वह गुफा भी है जो रामायण काल में श्री राम और रावण में हुए युद्ध की गाथा दर्शाती हैं। तो वहीं यहा के लोगों का मानना है कि आज भी मंदिर परिसर में अनवरत जल की धारा बहती है जो एक कुंड में पहुंचती हैं। यहां प्राचीन सात मंजिला इमारत बनी हुई हैं जिसे सतखंडा के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि इस पहाड़ों के बीच से निकलने वाली जलधारा जो एक गोमुख से निकलती है वो प्राकृतिक वनस्पतियों से होकर आती है। इस जल को पीने से बच्चों एवं वृद्धों के भीष्ण से भीष्ण रोग खत्म हो जाते हैं।
PunjabKesari makardhwaj temple gwalior, makardhwaj temple, Lord hanuman, Lord Hanuman Son makardhwaj, makardhwaj, Dharmik Sthal, Religious lPlace in India, Hindu Teerth Sthal, Dharm
मंदिर से संबंधित पौराणिक कथाओं के अनुसार जब रामायण काल में श्रीराम और रावण के बीच भारी महासंग्राम छिड़ा हुआ था उस दौरान श्रीराम की सेना का पराक्रम अद्भुत था और रावण की सेना को पराजय का सामना करना पड़ रहा था। जब रावण की सेना के सभी योद्धा एक-एक करके महासंग्राम में मारे जाने लगे तभी उसे अपने भाई अहिरावण की याद आई और उसने उसको श्री राम और उनके भ्राता लक्ष्मण को अपहरण कर पाताल लोक ले जाने का आदेश दिया था। तब अहिरावण श्रीराम लक्ष्मण का अपहरण कर पाताल लोक इसी जगह से लेकर गया था। मान्यताओं के अनुसार करहिया के जंगल में स्थित पहाड़ों के बीच मकरध्वज मंदिर की गुफा ही एकमात्र रास्ता है जो पाताल लोक  को जाता है। 
PunjabKesari makardhwaj temple gwalior, makardhwaj temple, Lord hanuman, Lord Hanuman Son makardhwaj, makardhwaj, Dharmik Sthal, Religious lPlace in India, Hindu Teerth Sthal, Dharm
इस दौरान मकरध्वज को पहरेदार बनाकर गुफा के द्वार पर खड़ा किया गया था। तब पवन पुत्र हनुमान जी राम लक्ष्मण का पता लगाते हुए इस गुफा के द्वार पर पहुंचे तो वहां मकरध्वज नामक योद्धा द्वार पर खड़ा देखा। जब हनुमान जी ने पाताल लोक जाने के लिए अपने कदम आगे बढ़ाए तो दोनों में भीषण युद्ध हुआ। जब दोनों में से कोई एक दूसरे को कोई परास्त नहीं कर सका तब हनुमान जी ने कहा हे वानर राज!, तुम कौन हो। 
PunjabKesari makardhwaj temple gwalior, makardhwaj temple, Lord hanuman, Lord Hanuman Son makardhwaj, makardhwaj, Dharmik Sthal, Religious lPlace in India, Hindu Teerth Sthal, Dharm
तब मकरध्वज ने अपनी कहानी सुनाई और बताया कि मैं हनुमान जी का पुत्र हूं। जब लंका में हनुमान जी आग लगाकर समुद्र में अपनी पूंछ की आग बुझाने के लिए पहुंचे थे उसी समय उनके पसीने की एक बूंद को मछली ने निगल लिया था उसी से मेरा जन्म हुआ है तब हनुमान जी ने कहा कि मैं ही तुम्हारा पिता हूं। 
PunjabKesari makardhwaj temple gwalior, makardhwaj temple, Lord hanuman, Lord Hanuman Son makardhwaj, makardhwaj, Dharmik Sthal, Religious lPlace in India, Hindu Teerth Sthal, Dharm
तब मकरध्वज ने कहा कि मैं धर्म के बंधन में बंधा हुआ हूं इसलिए आप मुझे जंजीरों से बांधकर पाताल लोक जा सकते हैं तब हनुमान जी मकरध्वज को जंजीरों से बांधकर पाताल लोक गए और अहिरावण की भुजा उखाड़कर उसे मारकर श्री राम लक्ष्मण को अहिरावण के चंगुल से बचा लिया। बाद में मकरध्वज को जंजीरों से मुक्त करते हुए उसे पाताल लोक का राजा घोषित कर दिया। कालांतर में यहां मकरध्वज का मंदिर बना दिया गया जो आज भी बना हुआ है।
 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News