मकर संक्रांति पर क्यों दान की जाती है खिचड़ी ?

1/11/2019 2:17:47 PM

ये नहीं देखा तो क्या देखा (VIDEO)
लगभग सभी को पता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव की पूजा की जाती है। वैसे आमतौर पर हिंदू धर्म का ये प्रमुख पर्व 14 जनवरी को मनाया जाता है। परंतु इस बार यानि 2019 में मकर संक्रांति का ये प्रमुख त्योहार 15 जनवरी को पड़ रहा है। ज्योतिष के अनुसार इस दिन सूर्य देव की पूजा होती है। शनि देव के पिता सूर्य देव को नवग्रहों में सबसे शक्तिशाली और प्रभावशाली ग्रह माना जाता है। कहते हैं जिस किसी पर इनकी कृपा हो जाती है उसके जीवन की सारी समस्याएं खत्म हो जाती हैं। ज्योतिष की कुछ मान्यताओं के अनुसार सूर्य के शुभ प्रभाव से जीवन में यश की प्राप्ति होती है। विद्वानों ज्योतिषों के मुताबिक 2019 की मकर संक्रांति पर सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, जो सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए बेहद खास माना जा रहा है। इसी के साथ ये भी कहा जा रहा है कि जिन लोगों की कुंडली में सूर्य की स्थिति शुभ है उन्हें इस मकर संक्रांति पर बहुत कुछ प्राप्त होने वाला है। सूर्य के शुभ प्रभाव से जातक की ख्याति और प्रतिष्ठा में वृद्धि होने के प्रबल योग लग रहे हैं। बता दें कि सूर्य देव सिंह राशि के स्वामी ग्रह हैं।  
PunjabKesari

हिंदू धर्म में इन्हें प्रमुख देवों में से एक माना जाता है। इनकी सबसे प्रिय वस्तुएं गाय, गुड़, और लाल वस्त्र आदि हैं। इसके अलावा इन्हें तांबा और सोना भी अति प्रिय है।

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य को प्रसन्न करने के लिए कुछ खास कामों का वर्णन किया गया है तो आइए जानते हैं कौन से वो खास काम-

ये तो लगभग सभी जानते ही होंगे कि शास्त्रों में सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए रविवार का दिन सबसे उत्तम माना गया है। इसलिए कहा जाता है कि इस दिन गुड़ और गेहूं किसी गाय को खिलाना चाहिए। अगर ये संभव न हो तो किसी ब्राह्मण को ये दोनों चीज़ो का दान ज़रूर करें। ऐसा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है और कुंडली में सूर्य की स्थिति मज़बूत होती है।
PunjabKesariअगर आप चाहते हैं कि इस खास दिन आप पर भी सूर्य की रोशनी भरी किरण  आप पर पड़ जाए और आपका जीवन इससे रोशन हो जाए तो इस दिन जरूरतमंद गरीबों को कंबल, गर्म वस्त्र, घी और सबसे खास दाल-चावल की कच्ची खिचड़ी का दान ज़रूर करें। इससे आपकी हर मनोकामना पूरी होगी।
PunjabKesariजैसे हर देवी-देवता को कोई न कोई फूल पंसद है ठीक वैसे ही सूर्य देव को भी आक का फूल बहुत प्रिय है। इस बात का वर्णन विष्णु पुराण में भी किया जाता है। तो अगर मकर संक्रांति के दिन उन्हें आक का एक फूल भी श्रद्धा पूर्वक अर्पित किया जाए तो जातक को 10 अशर्फियां के दान का फल मिलता है। इतना ही नहीं अगर कोई इस फूल को रोज़ाना सूर्य देव को अर्पित करता है तो वो व्यक्ति करोड़पति बन सकता है।
PunjabKesari

इसके अलावा सूर्य देव को रात के समय कदंब और मुकुल के फूल अर्पित करना श्रेयस्कर माना जाता है। बेला का फूल ही एक ऐसा फूल है जिसे दिन या रात किसी वक्त चढ़ा सकते हैं, इसलिए इस फूल को कभी भी सूर्य देव पड़ चढ़ाया जा सकता है।

इसके अलावा गुंजा, धतूरा, अपराजिता और तगर ऐसे फूल हैं  जिन्हें सूर्य देव को कभी नहीं चढ़ाना चाहिए।
कौन है GOLDEN BABA, क्या आप इनके बारे में जानते हैं ? (VIDEO)


Jyoti