वस्तुओं का संग्रह करने से पहले पढ़ें गांधी जी की ये अहम सीख

punjabkesari.in Saturday, Feb 11, 2023 - 08:52 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

एक समय की बात है, जब गांधी जी के पुत्र कांतिभाई सेवाग्राम में आश्रमवासी की तरह रहने के लिए आए। कांतिभाई को आश्रम की ओर से उपयोग करने के लिए 2 धोती दी गईं। यह नियम सभी आश्रम वासियों के लिए निश्चित था। कांतिभाई ने गांधी जी से निवेदन किया, बापू, 2 धोतियों से मेरा काम नहीं चलेगा। कम से कम एक धोती तो मुझे और दी जाए।

PunjabKesari Mahatma Gandhi

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें

गांधी जी ने कहा 2 धोतियों में तो मेरा और सभी आश्रम वासियों का अच्छी तरह काम चल जाता है। तुम्हें तीसरी धोती की जरूरत क्यों है ? यहां हम सब काफी सादगी और मितव्ययिता से रहते हैं। कांतिभाई ने गांधी जी को आश्वस्त करना चाहा कि प्रवास आदि के लिए एक धोती साथ में अतिरिक्त रखी जाए, तो ठीक रहेगा। परन्तु गांधी जी को यह तर्क समझ में नहीं आया। उन्होंने कहा जनता को पाई-पाई का हिसाब देना होता है। हम स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ रहे हैं  तो इसका अर्थ यह नहीं कि हम उनके द्वारा दिए गए धन को चाहे जैसा खर्च करें।

PunjabKesari Mahatma Gandhi

उन्होंने कहा कि यह सोचना गलत होगा कि हमें कोई पूछने वाला नहीं है। हमारी जनता के प्रति जवाबदेही है और मैं तो कहता हूं कि सुविधाओं का ख्याल करने वालों को सेवाग्राम से कोई संबंध ही नहीं रखना चाहिए। यहां रहना है तो संयम से ही रहना होगा।
गांधी जी का यह व्यवहार देखकर वहां मौजूद एक पत्रकार ने गांधी जी से पूछा, बापू एक धोती की ही तो बात है। एक छोटी सी बात पर आप इतना जोर क्यों दे रहे हैं ?

PunjabKesari Mahatma Gandhi

गांधी जी ने तब उस पत्रकार से कहा, ‘‘इसे छोटी-सी बात मत समझो। यह संस्कारों की बात है। संग्रह की भावना इसी से उपजती है और समाज में विषमता पैदा करती है।’’ 

PunjabKesari kundli
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Nitika

Related News

Recommended News