मानो या न मानो: संकल्प करोगे तो उत्तरायण में शरीर छूटेगा

punjabkesari.in Saturday, Dec 02, 2023 - 11:50 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Mahabharat story: कौरवों और पांडवों की जब लड़ाई हुई भीष्म पितामह को तीर लगने पर शरीर शांत न हुआ। उन्होंने दृढ़ संकल्प किया था कि जब तक आत्मनिष्ठ न हो जाऊं तब तक शरीर नहीं छोड़ूंगा। पूरी तीरों की शैया बन गई। अट्ठारह दिन तक तीरों की शैया पर सोए।

PunjabKesari Mahabharat story

कृष्ण ने उन्हें दर्शन दिए और ज्ञान दिया। द्रौपदी आई तो वह भी ज्ञान सुन रही थी। द्रौपदी ने कहा आप तो ज्ञान सुनाते हैं, जब मुझे नग्न किया गया उस समय आप कहां थे ?

तो उन्होंने कहा मैंने दुर्योधन का अन्न खाया था तो कुछ बोला नहीं। अब 18 दिन तीरों की सेज पर इसलिए सोया हूं कि पहले वाले अन्न का खून निकल जाए और शुद्ध ज्ञान अंदर रहे। जब सूर्य उत्तरायण में आए तब शरीर छूटा।

PunjabKesari Mahabharat story

सिद्धांत : जब झूठा अन्न निकलेगा तब ज्ञान लगेगा। तीरों की सेज यानी कष्ट सहने होंगे। संकल्प करोगे तो उत्तरायण में शरीर छूटेगा।

PunjabKesari Mahabharat story


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Recommended News

Related News