महाभारत: विनम्रता में है सफलता, भीष्म पितामह ने पांडवों को दिया था ये उपदेश

punjabkesari.in Monday, Jul 04, 2022 - 12:37 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
महाभारत का धर्मयुद्ध अपने अंतिम चरण में था। भीष्म पितामह बाण शय्या पर लेटे जीवन की अंतिम घडिय़ां गिन रहे थे। उन्हें इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त था। धर्मराज युधिष्ठिर जानते थे कि पितामह उच्चकोटि के ज्ञान और जीवन संबंधी अनुभव से सम्पन्न हैं। वह अपने भाइयों और पत्नी सहित उनके समक्ष पहुंचे और उनसे विनती की कि पितामह, ‘‘आप विदाई की बेला में हमें ऐसी शिक्षा दें जो सदैव हमारा मार्गदर्शन करे।’’
PunjabKesari महाभारत, Mahabharat, Bhishma Pitamah, Bhishma Niti, Pandav, Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Dharm

तब भीष्म ने बड़ा ही उपयोगी जीवन दर्शन समझाते हुए नदी और समुद्र के संवाद की कथा सुनाई। उन्होंने कहा कि नदी जब समुद्र तक पहुंचती है तो अपने जल के प्रवाह के साथ बड़े-बड़े वृक्षों को भी बहाकर ले जाती है। एक दिन समुद्र ने नदी से प्रश्र किया, ‘‘तुम्हारा जल प्रवाह इतना शक्तिशाली है कि उसमें बड़े-बड़े वृक्ष भी बहकर आ जाते हैं पर कभी कोमल घास नहीं आती। ऐसा क्यों?’’
 

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

PunjabKesari

नदी का उत्तर था जब-जब मेरे जल का बहाव तेज और प्रलयंकारी होता है, तब घास झुक जाती है और मुझे मार्ग दे देती है, किन्तु वृक्ष अपनी कठोरता के कारण ऐसा नहीं कर पाते, इसलिए मेरा प्रवाह उन्हें बहा ले आता है। इस छोटे से उदाहरण से हमें सीखना चाहिए कि जीवन में हमेशा विनम्र रहें तभी व्यक्ति का अस्तित्व बना रहता है। सभी पांडवों ने भीष्म के इस उपदेश को ध्यान से सुनकर अपने आचरण में उतारा और सुखी हो गए।
PunjabKesari महाभारत, Mahabharat, Bhishma Pitamah, Bhishma Niti, Pandav, Dharmik Katha In Hindi, Dharmik Story In Hindi, Lok katha In hindi, Dharmik Hindi katha, Dant Katha in Hindi, हिंदी धार्मिक कथा, Dharm


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News