कुंडली में ग्रह दे रहे हो बुरा प्रभाव तो ये उपाय करने से मिल सकती है राहत!

punjabkesari.in Wednesday, Nov 24, 2021 - 10:39 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
अपनी वेबसाइट के माध्यम से हम आपको पहले भी बता चुके हैं, ज्योतिष की दृष्टि से ग्रहों का प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में खासा असर होता है। इस संदर्भ में हमने आगे आपकी जानकारी दी है कि अगर कुंडली में ग्रह रूठ जाएं तो जातक पर उसका प्रभाव बहुत बुरा पड़ता है। ऐसे में उन्हे मनाने के लिए कई तरह के उपाय आदि किए जा सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि अगर कुंडली में ग्रह रूठ कर बुरा प्रभाव दे रहे हों तो क्या करना चाहिए। 

अगर शनि देव आपसे रूठे बने हुए हैं तो उन्हें प्रसन्न करने के लिए प्रतिदिन हनुमान चालीसा और शनि चालीसा का पाठ करें।
शनिवार को नीले और काले रंग के वस्त्र धारण करने से बचें।  
प्रत्येक शनिवार को शनि मंदिर में जाएं। शनि जी की उपासना करें और उनकी कृपा के लिए प्रार्थना करें।
शनिवार के दिन सरसों का तेल, उड़द, काला कपड़ा, जूते आदि का दान करना चाहिए।
लोहे की चीजें शनिवार को न खरीदें।
शनिवार के दिन कटोरी में सरसों का तेल डालकर उसमें अपना चेहरा देखें और उस तेल को दान करें।
असहाय लोगों की मदद करने से भी लाभ मिलता है।
शनि मंत्र ॐ शं शनैश्चराय नमः जाप करें। 

ज्योतिष में सूर्य को ग्रहों का राजा माना गया है, इसलिए किसी भी जातक की कुंडली में सूर्य की शुभता बहुत ज्यादा मायने रखती है। यदि कुंडली सूर्य उच्च का होकर शुभ फल दे रहा हो तो व्यक्ति को पिता एवं सरकारी क्षेत्र से लाभ प्राप्त होता है, लेकिन नीच अवस्था में होने पर उसे इसका विपरीत फल मिलता है। कुंडली में सूर्य की स्थिति व्यक्ति की भौतिक प्रगति में बहुत ज्यादा महत्व रखती है।  यदि आपने सूर्य देव को प्रसन्न कर लिया तो आपका भाग्य अपने आप चमक जाएगा। सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए आप प्रतिदिन उगते हुए सूर्य को जल दें और गायत्री मंत्र का जाप करें। 

रविवार के दिन कोई ना कोई केसरिया रंग का वस्त्र धारण करें। 
सूर्य देव के लिए गुड़, लाल पुष्प, तांबा, गेहूं आदि का दान करें।

अगर आपसे शुक्र देव रुठे हुए हैं तो आप हमेशा कष्ट में रहेंगे। इसलिए उन्हें प्रसन्न करना अति आवश्यक होता है। इसके लिए आपको रोजाना स्फटिक की माला से ऊं शुं शुक्राय नम: मंत्र का जाप करना चाहिए। ऐसा करने से शुक्र देव प्रसन्न होकर जातक को आशीर्वाद देते हैं। नहाते समय पानी की बाल्टी में कुछ बूंदें गुलाबजल के डालें और इसी खुशबूदार पानी से नहाएं। शुक्रवार के दिन सफेद रंग के कपड़ों का दान गरीबों में करें।

शुक्रवार के दिन किसी मंदिर या धार्मिक स्थान पर तुलसी का पौधा लगाएं। पांच शुक्रवार तक कन्याओं को दूध-मिश्री पिलाएं। अपने साथ हमेशा चांदी का सिक्का रखें। शुक्रवार को सफेद वस्तुएं सफेद वस्त्र, दूध, मिश्री, चीनी दान में दें।

यदि आपको बुध ग्रह शुभ फल नहीं दे रहे हैं तो आप कुछ खास उपाय करके उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं। इसके लिए लड़कियों को बायें हाथ और लड़कों को दाहिने हाथ में तांबे का कड़ा धारण करना चाहिए। बुधवार के दिन कोई ना कोई हरे रंग का वस्त्र धारण करें या फिर अपने पास हरे रंग का रुमाल रखें। गाय को हरा चारा खिलाएं। हरे कपड़े में हरी मूंग बांधकर  बहते जल में प्रवाहित करें। श्री गणेश जी को लड्डू का भोग लगाएं।

ज्योतिष में राहु को छाया ग्रह माना गया है।  शुभ होने पर यह  व्यक्ति को रंक से राजा बना देता है लेकिन अशुभ होने पर यह व्यक्ति को लक्ष्य से भटकाकर गलत संगत में डाल देता है।

नहाने के जल पानी में शुद्ध चंदन का इत्र डालकर स्नान करने से राहु शुभ असर देने लगता है। 
सोमवार को किसी प्राचीन शिवलिंग पर गंगाजल मिला जल चढ़ाने से  राहु दोष कम होने लगता है।

राहु के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए काली वस्तुओं- जैसे काले कपड़े, काला उड़द , इस्तेमाल किया हुआ काला कम्बल आदि का शनिवार के दान अवश्य करें ।

किसी गरीब आदमी की लड़की की शादी में आर्थिक मदद प्रदान करनी चाहिए। रोज रात को सोने से पहले आप गुनगुने पानी में नमक मिलाकर  हाथ-पैर धोकर सोएं। ऐसा करने से राहु शांत होता है।

राहु की तरह केतु को भी ज्योतिष में छाया ग्रह माना गया है। केतु के अशुभ होने पर व्यक्ति के मन पर सीधा प्रभाव पड़ता है। इससे प्रभावित व्यक्ति अक्सर डिप्रेशन में पाये जाते हैं।  किसी भी जातक की कुंडली में शुभ होने पर उसे संतान और ननिहाल का सुख प्राप्त होता है।
केतु को प्रसन्न करने के लिए केला, तिल के बीज, काला कंबल आदि दान किया जा सकता है।
दुर्गा जी, हनुमान जी और गणेश जी की आराधना करें।
भैरव जी को केले के पत्ते पर चावल का भोग लगाएं।
शुद्ध गाय के घी का दीपक अपने घर में पूजा के स्थान पर जलाएं और हो सके तो घर के आस पास कोई मंदिर हो तो उसमे भी जलाएं।
तिल के लड्ड़ओं का दान करें।
रविवार के दिन कन्याओं को मीठी दही और हलवा खिलाएं।
गरीबों में दान करें।
हरे रंग का रुमाल हमेशा अपने पास रखें।

गुरमीत बेदी 
gurmitbedi@gmail.com


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News