गणेश जी की FULL कृपा पाने के लिए इस स्रोत को लिख कर बांटें

8/14/2019 10:42:38 AM

ये नहीं देखा तो क्या देखा (Video)
जो मनुष्य सुबह, दोपहर और सायं तीनों संध्याओं के समय प्रतिदिन इन बारह नामों का पाठ करता है, उसे विघ्न का भय नहीं होता। यह नाम-स्मरण उसके लिए सभी सिद्धियों का उत्तम साधक है। इन नामों के जप से विद्यार्थी, विद्या, धनार्थी धन, पुत्रार्थी अनेक पुत्र और मोक्षार्थी मोक्ष पाता है। इस गणपतिस्रोत का नित्य जप करें। जपकर्ता को छ: महीने में अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है। एक वर्ष तक जप करने से मनुष्य सिद्धि को प्राप्त कर लेता है, इसमें संशय नहीं है। जो इस स्रोत को लिख कर आठ ब्राह्मणों को अर्पित करता है उसे गणेश जी की कृपा से सम्पूर्ण विद्या की प्राप्ति होती है।
PunjabKesari, Ganesh ji, Narada Uwach
संकष्टनाशनस्तोत्रम् नारद उवाच 
प्रणम्य शिरसा देवं गौरीपुत्रं विनायकम्। भक्तावासं स्मरेन्नित्यमायु: कामार्थसिद्धये।।
प्रथमं वक्रतुंडं च एकदंतं द्वितीयकम्। तृतीयं कृष्णपिङ्गाक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम्।।
लम्बोदरं पञ्चमं च षष्ठं विकटमेव च। सप्तमं विघ्नराजेंद्रं धूम्रवर्णं तथाष्टमम्।।
नवमं भालचन्द्रं च दशमं तु विनायकम्। एकादशं गणपति द्वादशं तु गजाननम्।।
द्वादशैतानि नामानि त्रिसंध्यं य: पठेन्नर:। न च विघ्नभयं तस्य सर्वसिद्धिकरं परम्।।
विद्यार्थी लभते विद्यां धनार्थी लभते धनम्। पुत्रार्थी लभते पुत्रान्  मोक्षार्थी लभते गतिम्।।
जपेद्रणपतिस्तोत्रं षड्भिर्मासै: फलं लभेत्। संवत्सरेण सिद्धिं च लभते नात्र संशय:।।
अष्टभयो ब्राह्मणेभ्यश्च लिखित्वा य: समर्पयेत्। तस्य विद्या भवेत् सर्वा गणेशस्य प्रसादत:।।
PunjabKesari, Ganesh ji, Narada Uwach
अर्थात- नारद जी कहते हैं पहले मस्तक झुकाकर गौरीपुत्र विनायक देव को प्रणाम करके प्रतिदिन आयु, अभीष्ट मनोरथ और धन आदि प्रयोजनों की सिद्धि के लिए भक्तावास गणेश जी का स्मरण करें,पहला नाम ‘वक्रतुंड’ है दूसरा ‘एकदंत’ है, तीसरा ‘कृष्णपिंगाक्ष’ है, चौथा ‘गजवक्त्र’ है, पांचवां ‘लम्बोदर’, छठा ‘विकट’, सातवां ‘विघ्नराजेंद्र’, आठवां ‘धूम्रवर्ण’, नौवां ‘भालचंद्र’, दसवां ‘विनायक’, ग्यारहवां ‘गणपति’ और बारहवां नाम ‘गजानन’ है ।
PunjabKesari, Ganesh ji, Narada Uwach


Niyati Bhandari