इन चीज़ों के साथ मरेंगे तो मिलेगा स्वर्ग

9/17/2019 2:31:00 PM

शास्त्रों को कितना जानते हैं आप
आप में से शायद हो कोई इंसान जिसके मन में स्वर्ग जाने की इच्छा नहीं होगी। कोई ऐसा व्यक्ति नहीं जो नर्क में जाना चाहे। मगर अब जाह़िर सी बात है कि अब ये हमारे यानि किसी इंसान के हाथ में तो है नहीं कि वो नर्क में जाएगा। मगर आपको बता दें आप नर्क जाएंगे या स्वर्ग इसमें काफी हद तक आपका ही हाथ होता है। जी हां, आपके कर्मों के साथ-साथ ऐसी और भी कुछ चीज़ें हैं जो आपका स्वर्ग-नर्क जाना निश्चित करती है। तो आइए आज आपको बताते है गरुड़ पुराण में बताई गई कुछ ऐसी चीज़ों के बारे में जिनके बारे में कहा जाता है कि अगर इनमें से एक भी चीज़ मरने वाले इंसान के पास पड़ी हो तो उसे बिना श्राद्ध किए ही स्वर्ग की प्राप्त हो जाती है।  
PunjabKesari, Garuda Purana, गुरुड़ पुराण
गुरुड़ पुराण के नवम अध्याय में एक उपाय बताया गया है जिससे मनुष्य को बिना कुछ किए स्वर्ग में स्थान मिल जाता है। भगवान विष्णु पक्षीराज गरुड़ से कहते हैं कि मृत्यु के समय जिनके पास ये चार चीजें होती हैं उनके पास यमदूत नहीं आते और व्यक्ति की आत्मा को स्वर्ग में स्थान मिल जाता है।

तुलसी का पौधा
कहा जाता है जिस घर में तुलसी का पौधा होता है वह घर तीर्थरूपी होता है। मान्यता है कि जो व्यक्ति तुलसी की मंजरी से युक्त होकर प्राण त्यागता है वह यमलोक नहीं जाता है। इसलिए जह घर के किसी व्यक्ति की मृत्यु के करीब होने के संकेत मिलने लगे तो तुलसी के पौधों के पास व्यक्ति को लेटा देना चाहिए। इसके साथ ही मरने वाले व्यक्ति के माथे पर तुलसी के पत्ते और मंजरियों को रख देना चाहिए। व्यक्ति के मुंह में भी तुलसी के पत्ते रख देना चाहिए। इस प्रकार से मृत्यु होने पर व्यक्ति यमलोक नहीं जाता है और उसे स्वर्ग जाने का अधिकार प्राप्त हो जाता है।

गंगा जल
गरुड़ पुराण में बताया गया है कि मृत्यु को करीब जानकर जो लोग मरने वाले के मुख में गंगाजल डाल देते हैं वह मरने वाले का बड़ा उपकार करते हैं। गंगा भगवान विष्णु के चरणों से निकली है और पापों का नाश करने वाली है। गंगाजल धारण कर जो प्राण त्यागता है वह स्वर्ग का अधिकारी हो जाता है। हिंदू धर्म के विभिन्न पुराणों में कहा गया है कि दाह संस्कार के बाद अस्थि को गंगाजल में प्रवाहित करने से जबतक व्यक्ति की अस्थि गंगा में रहती है तबतक व्यक्ति स्वर्ग में सुख से रहता है।
PunjabKesari, गंगा, गंगा स्नान, पावन गंगा, Ganga
तिल
भगवान विष्णु बताते हैं तिल उनके पसीने से उत्पन्न होने के कारण पवित्र है। मृत्यु के समय मरने वाले के हाथों से तिल का दान करवान से असुर, दैत्य, दानव आदि भाग जाते हैं। मरने वाले के सिरहाने में काले तिल को रखना चाहिए, इससे सद्गति प्राप्त होती है।

कुश का आसन
कुश एक प्रकार का घास है। हिंदू धर्म में इसे बहुत ही पवित्र माना जाता है इसके बिना कोई भी पूजा पूरी नहीं होती। मृत्यु के समय तुलसी के पौधे के पास कुश का आसन बिछाकर व्यक्ति को सुला देना चाहिए और मुंह में तुलसी का पत्ता रख देना चाहिए। इस प्रकार जिनकी मृत्यु होती है वह संतानहीन होने पर भी बैकुंठ प्राप्त करते हैं।
PunjabKesari, Kusha asaan, कुशा, कुशा का आसन


Jyoti

Related News