शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ाते समय बोला गया ये मंत्र, दूर कर सकता है आपका हर रोग

12/2/2019 3:50:11 PM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
सोमवार के दिन भगवान शिव की आराधना करने से व्यक्ति को सौभाग्य की प्राप्ति होती है। कहते हैं कि भोलेनाथ एक ऐसे देव हैं जो किसी भी व्यक्ति के एक लोटा जल चढ़ाने से ही प्रसन्न हो जाते हैं। इसके साथ ही भगवान को बेलपत्र भी बहुत प्रिय है। ऐसे में इंसान बेलपत्र का सही इस्तेमाल करके हम बहुत सारी मनोकामनाएं पूरी कर सकता है। आज हम आपको बेलपत्र के महत्व व उसे चढ़ाते समय बोले जाने वाले मंत्र के बारे में बताने जा रहे हैं। 
PunjabKesari
बेलपत्र की महिमा 
बेल नामक पेड़ की पत्तियों को बेलपत्र कहा जाता है। भगवान शिव जी की पूजा में बेलपत्र के अद्भुत प्रयोग होते हैं और बिना बेलपत्र के शिव जी की पूजा संपूर्ण नहीं हो सकती है। बेलपत्र के दैवीय के अलावा औषधिय प्रयोग भी हैं, इसके प्रयोग से तमाम बीमारियां गायब की जा सकती हैं।
PunjabKesari
विवाह के लिए मंत्र
अगर आपके विवाह में किसी तरह की अढटचन आ रही है तो 108 बेलपत्र लें और उनपर चंदन से राम लिखें और ऊं नम: शिवाय कहते हुए बेलपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाते जाएं और जब 108 बेलपत्र चढ़ा लें तो शीघ्र विवाह की प्रार्थना करें।
PunjabKesari
गंभीर रोग को दूर करने के लिए मंत्र
अगर आपका कोई रोग ठीक नहीं हो रहा तो 108 बेलपत्र लें और एक पात्र में चंदन का इत्र लें। बेल पत्र चंदन में डुबाते जाएं और शिवलिंग पर अर्पित करते जाएं और हर बेलपत्र के साथ ऊं हौं जूं स: मंत्र का जाप करें। 


Lata

Related News