558 करोड़ की लागत से बनाया दा रहा है महाकाल कॉरिडोर, मंदिर के दर्शन होंगे आसान

punjabkesari.in Wednesday, May 11, 2022 - 06:15 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हमारे देश में कुल 12 ज्योतिर्लिंग स्थापित है, जहां भगवान शंकर लिंग के रूप में विराजमान हैं। बताया जाता है तमाम ज्योतिर्लिंग का न केवल अपना महत्व है बल्कि सभी मंदिर देखने में भी काफी भव्य व सुंदर हैं। इन्हीं में से एक महाकालेश्वर, जहां देवों के देव महादेव महाकाल रूप में विराजमान हैं। दूर से दूर से लोग यहां इनके दर्शन व इनसे आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए पहुंचते हैं। बता दें हाल ही में इससे जुड़ी एक खबर सामने आई जिसके महाकालेश्वर आने वाले भक्तों के लिए महाकाल के दर्शन करने बेहद आसान हो जाएंगे। दरअसल खबरों के मुताबिक लगभग 558 करोड़ की लागत से नया महाकाल कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है, जिससे न केवल भगवान महाकाल के दर्शन आसान होंगे बल्कि अन्य कई सुविधाएं प्राप्त होंगी। आइए जानते हैं पूरी खबर- 
mahakal-corridor, 558-crores-construction in kashi, ayodhya facilities will increase, Mahakaleshwar Mandir, Mahakaleshwar Temple, Mahakaleshwar Jyotirlinga, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Dharm, Punjab Kesariबता दें ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर का नया कॉरिडोर तैयार हो रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार काशी विश्वनाथ कॉरिडोर 300 मीटर में बना है, जबकि ये महाकाल कॉरिडोर 900 मीटर क्षेत्र में बनाया जा रहा है। अर्थात महाकाल कॉरिडोर काशी से भव्य होगा। बताया जा रहा है कि दो चरणों में हो रहे यात्रियों के लिए दर्शनीय क्षेत्र निर्माण और सुविधाएं विकसित करने पर 558 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। जिसमें पहले चरण के 310 करोड़ रुपए के महाकाल कॉरिडोर के कामों को 15 मई तक पूरा करने का टारगेट है। बता दें अधिकांश काम 80% से ज्यादा पूरे हो चुके हैं। 
mahakal-corridor, 558-crores-construction in kashi, ayodhya facilities will increase, Mahakaleshwar Mandir, Mahakaleshwar Temple, Mahakaleshwar Jyotirlinga, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Dharm, Punjab Kesari
इन कामों से मंदिर परिसर 2 हेक्टेयर से बढ़ कर 40 हेक्टेयर का हो जाएगा जिसमें रुद्रसागर सम्मिलित होगा। इसके निर्माण से यात्रियों के लिए भगवान महाकालेश्वर के दर्शन सुरक्षित और आसान होंगे तथा प्रशासन को भीड़ नियंत्रण और प्रबंधन में सुविधा प्राप्त होगी।  

मंदिर के खुला करने के लिए मंदिर के आसपास से सभी भवन हटाए जा रहे हैं। इसके परिणाम स्वरूप श्रद्धालु दूर से ही शिखर दर्शन कर सकेंगे। आगे और पीछे दोनों की तरफ शिखर दर्शन क्षेत्र बनाया जा रहा है। जिससे परिसर क्षेत्र भी बढ़ेगा।

रुद्रसागर के किनारे दो नए द्वार नंदी द्वार व पिनाकी द्वार के मध्य विकसित किए जा रहे, यात्री संकुल में 20 हजार से ज्यादा यात्रियों का आवागमन हो सकेगा।
mahakal-corridor, 558-crores-construction in kashi, ayodhya facilities will increase, Mahakaleshwar Mandir, Mahakaleshwar Temple, Mahakaleshwar Jyotirlinga, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Dharm, Punjab Kesari
इसके अलावा नंदी द्वार से 900 मीटर लंबा दर्शन कॉरिडोर बनाया गया है। 400 से ज्यादा वाहनों के पार्किंग क्षेत्र, धर्मशाला व अन्नक्षेत्र परिसर से यात्री सीधे नंदी द्वार में प्रवेश करेंगे।

तो वहीं पौराणिक रुद्रसागर में साफ पानी भरने का बंदोबस्त किया गया है। इसके किनारे एक घाट भी बनाया है, जहां यात्री बैठ कर रुद्रसागर के नजारों का लुत्फ उठा पाएंगे। 
PunjabKesari mahakal-corridor, 558-crores-construction in kashi, ayodhya facilities will increase, Mahakaleshwar Mandir, Mahakaleshwar Temple, Mahakaleshwar Jyotirlinga, Dharmik Sthal, Religious Place in India, Dharm


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News