3rd day of Navratri: शत्रुओं का नाश करने के लिए घर के इस कोने में लगाएं देवी चंद्रघंटा का चित्र

punjabkesari.in Wednesday, Sep 28, 2022 - 07:53 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Navratri 3rd day 2022: नवरात्रि देवी दुर्गा के 9 रूपों की साधना और उपासना का सरल मार्ग हैं। नवरात्रि हमारे मन व तन की शुद्धि करने के लिए ही रखे जाते हैं। नवरात्रि के तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा की साधना की जाती है। मां का सौम्य एवं दिव्य रूप सुनहरी आभा लिए सिंह की सवारी किए दस भुजाओं से भक्तों को सुख, शांति, वीरता, निर्भयता का वरदान देते हैं। देवी को सुगंधि अति प्रिय है। चंद्र को घंटे की आकृति के समान मस्तक पर सुशोभित किए हुए देवी साधक को अलौकिक गंध, अलौकिक दृश्यों का भान कराती हैं। देवी की इस छवि का वर्णन देवी माहात्म्य में बड़े सुंदर शब्दों में किया गया है। देवताओं को महिषासुर के भय से मुक्त करने के लिए देवी ने यह रूप लिया था। देवी युद्ध मुद्रा में होते हुए भी भक्तों के लिए अत्यंत करुणामयि भाव रखती हैं। तीसरी देवी का पूजन करने से अज्ञात भय से मुक्ति मिलती है। हर क्षेत्र में विजय प्राप्ति होती है। जो बच्चे अभी शिक्षा ग्रहण करने की अवस्था में हैं, उन्हें मां का यह रूप आत्मविश्वास और सफलता प्रदान करने वाला है।

PunjabKesari 3rd day of Navratri

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर व्हाट्सएप करें
 
आज के दिन देवी की पंचोपचार पूजा के बाद उन्हें दूध, खीर, शहद का भोग लगाएं। ऐसा करने से रुका हुआ धन वापिस मिलने की संभावना बढ़ जाती है।

PunjabKesari 3rd day of Navratri
छोटी कन्याओं के दूध से चरण पखारें और उन्हें सफेद या सुनहरी वस्त्रों का दान देने से व्यापार में वृद्धि होगी।
 
तीसरे नवरात्रि की देवी का पूजन उत्तर पश्चिम के कोने में बैठ कर करने से विशेष लाभ मिलेगा। अगर किसी शत्रु का भय है तो घर के इसी कोने में देवी का चित्र लगा दें।

PunjabKesari 3rd day of Navratri 
या देवी सर्वभूतेषु मां चंद्रघंटा रूपेण संस्थिता नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमो नमः।।  इस मंत्र की 25 माला करने से देवी का आशीर्वाद प्राप्त होगा।
 
शहद का दान लोगों में आपकी छवि अच्छी करेगा। समाज में मान-सम्मान और यश की प्राप्ति होगी।

नीलम
8847472411 

PunjabKesari kundli


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News