See More

ऑटो सैक्टर में मंदी, कम्पनियों की गिरी बिक्री

2020-03-02T10:51:24.5

नई दिल्ली: फरवरी माह में भी आटो सैक्टर में मंदी रही जिससे तकरीबन सभी कम्पनियों की बिक्री में गिरावट दर्ज की गई। मगर कम्पनियों का कहना है कि इस गिरावट में कोरोना वायरस का कोई असर नहीं है। वाहन कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा की बिक्री फरवरी महीने में सालाना आधार पर 42 प्रतिशत गिरकर 32,476 इकाइयों पर आ गई। कंपनी ने कहा कि उसने पिछले साल फरवरी महीने में 56,005 वाहनों की बिक्री की थी। कंपनी की घरेलू बिक्री इस दौरान 42 प्रतिशत गिरकर पिछले साल की 52,915 इकाइयों की तुलना में 30,637 इकाइयों पर आ गई। इस दौरान निर्यात भी पिछले साल की 3,090 इकाइयों की तुलना में 40 प्रतिशत गिरकर 1,839 इकाइयों पर आ गया।

PunjabKesari

कंपनी ने यूटिलिटी वाहनों, कारों और वैन समेत यात्री वाहन श्रेणी में फरवरी 2020 में 10,938 वाहनों की बिक्री की। यह फरवरी 2019 में इस श्रेणी में बिके 26,109 वाहनों की तुलना में 58 प्रतिशत कम है। इस दौरान कंपनी के वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री साल भर पहले की 21,154 इकाइयों से 25 प्रतिशत गिरकर 15,856 इकाइयों पर आ गई। मध्यम एवं भारी वाणिज्यिक वाहनों के खंड में भी बिक्री 686 इकाइयों की तुलना में कम होकर 436 इकाइयों पर आ गई। 

PunjabKesari

कोरोना वायरस से सुजूकी, हुंडई, टोयोटा के उत्पादन पर असर नहीं
प्रमुख वाहन विनिर्माता कंपनी मारुति सुजूकी, हुंडई और टोयोटा किर्लोस्कर मोटर का कहना है कि चीन में कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते कलपुर्जों की आपूर्ति में व्यवधान से उनके उत्पादन कार्यक्रम पर तत्काल कोई असर नहीं पड़ा है। हालांकि कंपनियां भविष्य में किसी भी विपरीत परिस्थिति से निपटने के लिए हालात पर नजर बनाए हुए हैं। 

PunjabKesari

मारुति सुजूकी इंडिया के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘फिलहाल अभी हमें किसी भी समस्या का अंदेशा नहीं है। हम अपने आपूर्तिकत्र्ताओं के संपर्क में रहेंगे और कोई समस्या होने पर सूचित करेंगे।’’ हुंडई मोटर इंडिया के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हम हालात पर नजर बनाए हुए हैं। हालांकि, फिलहाल कंपनी के कामकाज पर कोई असर नहीं है।’’ टोयोटा किर्लोस्कर मोटर ने भी ऐसी ही बात कही है।

कंपनी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (बिक्री एवं विपणन) नवीन सोनी ने कहा, ‘‘हमारे पहले और दूसरे श्रेणी के आपूर्तिकत्र्ता अभी तक कोरोना वायरस से प्रभावित नहीं हुए हैं। हालांकि हम तीसरे और चौथे श्रेणी के आपूर्तिकत्र्ताओं के परिचालन पर करीब से नजर रखे हुए हैं।’’ कंपनी अपने कलपुर्जों की स्थानीय आपूर्ति बढ़ाने पर ध्यान दे रही है, इसलिए वह इनका स्थानीयकरण कर रही है। इससे घरेलू आपूर्तिकत्र्ताओं के सामने एक अच्छा अवसर है। दक्षिण कोरिया की किया मोटर्स के भारतीय परिचालन पर अभी तक कोरोना वायरस का असर नहीं पड़ा है। 

मारुति की वाहन बिक्री फरवरी में 1 प्रतिशत घट कर 1,47,110 इकाई रही
देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजूकी इंडिया (एम.एस.आई.) की फरवरी में बिक्री 1.1 प्रतिशत घट कर 1,47,110 इकाई रह गई। एक साल पहले समान महीने में कंपनी ने 1,48,682 वाहन बेचे थे। मारुति ने कहा कि फरवरी, 2020 में उसकी घरेलू बिक्री 1.6 प्रतिशत घट कर 1,36,849 इकाई रह गई, जो एक साल पहले समान महीने में 1,39,100 इकाई रही थी। 

समीक्षाधीन महीने में कंपनी की छोटी कारों आल्टो और वैगन आर की बिक्री 11.1 प्रतिशत बढ़ कर 27,499 इकाई पर पहुंच गई, जो एक साल पहले समान महीने में 24,751 इकाई थी। वहीं कॉम्पैक्ट खंड में स्विफ्ट, सेलेरियो, इग्निस, बलेनो और डिजायर की बिक्री 3.9 प्रतिशत घट कर 69,828 इकाई रह गई, जो एक साल पहले समान महीने में 72,678 इकाई रही थी। मध्यम वाहन खंड में कंपनी की सियाज कार की बिक्री घट कर 2,544 इकाई रही, जो फरवरी, 2019 में 3,084 इकाई रही थी। हालांकि, समीक्षाधीन अवधि में कंपनी के यूटिलिटी वाहनों विटारा ब्रेजा, एस-क्रॉस और एॢटगा की बिक्री 3.5 प्रतिशत बढ़ कर 22,604 इकाई रही, जो एक साल पहले समान अवधि में 21,834 इकाई रही थी। फरवरी में कंपनी का निर्यात 7.1 प्रतिशत बढ़ कर 10,261 इकाई पर पहुंच गया। एक साल पहले समान महीने में कंपनी ने 9,582 वाहनों का निर्यात किया था।

हुंडई की बिक्री फरवरी में 10 प्रतिशत गिरी 
हुंडई मोटर इंडिया लिमिटेड (एच.एम.आई.एल.) ने कहा कि फरवरी में उसकी बिक्री में 10.3 प्रतिशत की गिरावट हुई और इस दौरान उसने 48,910 गाडिय़ां बेचीं। एच.एम.आई.एल. ने कहा कि कंपनी ने पिछले साल इसी महीने में 54,518 गाडिय़ां बेची थीं। बयान में कहा गया कि इस दौरान उनकी घरेलू बिक्री में 7.2 प्रतिशत की कमी हुई और यह फरवरी 2019 की 43,110 इकाइयों मुकाबले घटकर 40,010 इकाई रह गई। इसी तरह कंपनी के निर्यात में 22 प्रतिशत की कमी हुई और यह एक साल पहले की 11,408 इकाइयों के मुकाबले घटकर 8,900 इकाई रह गई।  

एम.जी. मोटर इंडिया की आपूर्ति में पैदा हुई बाधा 
एम.जी. मोटर इंडिया की आपूर्ति में कोरोना वायरस के कारण बाधा पैदा हुई है। इससे कंपनी का फरवरी का उत्पाद और बिक्री प्रदर्शन प्रभावित हुआ है। एम.जी. मोटर इंडिया के बिक्री निदेशक राकेश सिधाना ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस के प्रसार ने हमारे यूरोपीय और चीनी आपूर्तिकत्र्ताओं को बुरी तरह प्रभावित किया है। इसने हमारे फरवरी के उत्पादन और बिक्री पर असर डाला है। इसके मार्च में भी बने रहने की संभावना है।’’ टाटा मोटर्स ने इस बारे में टिप्पणी करने से मना कर दिया है लेकिन कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक गुएंटर बटशेक ने फरवरी की शुरूआत में कहा था कि चीन से कलपुर्जों की आपूर्ति में कमी के बारे में सही अनुमान तभी लगाया जा सकता है जब वहां श्रमिक दोबारा काम पर लौटेंगे। वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम ने भी कहा था कि वह कंपनियों से आंकड़े जुटाएगी ताकि पता लगाया जा सके कि कोरोना वायरस का असर किस हद तक पड़ा है। दोपहिया वाहन कंपनी हीरो मोटोकॉर्प और टी.वी.एस. मोटर कंपनी ने कहा था कि चीन में फैले कोरोना वायरस की वजह से फरवरी में उनका उत्पादन करीब 10 प्रतिशत तक कम हो सकता है। 

एम.जी. मोटर की बिक्री में भारी गिरावट 
एम.जी. मोटर इंडिया की बिक्री में फरवरी में भारी गिरावट आई है। चीन और अन्य देशों में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से कंपनी की कल-पुर्जों की आपूर्ति प्रभावित हुई है, जिससे उसकी बिक्री में गिरावट आई है। फरवरी में कंपनी की खुदरा बिक्री 1,376 इकाई रही है, जबकि जनवरी में यह 3,130 इकाई रही थी। एम.जी. मोटर इंडिया के पोर्टफोलियो में 2 मॉडल एस.यू.वी. हैक्टर और जेएस ई.वी. हैं।  कंपनी ने बयान में कहा कि पिछले महीने उसने जेएस ई.वी. की 158 इकाइयां बेचीं। कंपनी ने जैडएस ई.वी. को हाल में 20.88 लाख रुपए (दिल्ली शोरूम) की शुरूआती कीमत पर पेश किया था। कंपनी ने कहा कि उसे इसकी आज की तारीख तक 3,000 बुकिंग मिल चुकी हैं। यह 2019 में देश में बिकी कुल ई.वी. कारों से अधिक है।  


 


jyoti choudhary

Related News