रिलायंस ने अरामको के साथ $15 बिलियन का सौदा क्यों रद्द किया? जानें क्या है पूरा मामला

11/25/2021 9:11:00 PM

बिजनेस डेस्कः रिलायंस इंडस्ट्रीज और सऊदी अरामको ने अपली डील को हाल ही में रद्द कर दिया था। अब रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इसके पीछे वजह वैल्युएशन को लेकर चिंताएं हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि बातचीत इस बात पर बंद हुई, कि रिलायंस के ऑयल टू कैमिकल (O2C) बिजनेस को कितना वैल्यू किया जाना चाहिए, जब दुनिया फॉसिल फ्यूल्स से दूर जाकर उत्सर्जन को घटाने की कोशिशें कर रही है।

रिपोर्ट के मुताबिक, अब इसकी जगह कंपनी स्पेशिएलिटी कैमिकल का उत्पादन करने के लिए कई डील को साइन करने पर फोकस करेगी। दुनिया की सबसे बड़ी तेल निर्यातक कंपनी सऊदी अरामको ने रिलायंस के O2C बिजनेस में 20 फीसदी हिस्सेदारी को खरीदने के समझौते पर हस्ताक्षर किया था। साल 2019 में 15 बिलियन डॉलर में यह समझौता किया गया था। 

पिछले हफ्ते, कंपनियों ने ऐलान किया था कि कंपनियां डील का दोबारा आकलन करेगी। इससे दो सालों से चल रही बातचीत का दौर खत्म हो गया। डील का खत्म हो जाना बदलते ग्लोबल एनर्जी के माहौल को दिखाता है, क्योंकि तेल और गैस कंपनियां अब फॉसिल फ्यूल की जगह रिन्यूएबल एनर्जी पर फोकस कर रही हैं। Glasgow में हाल ही में हुई COP26 बातचीत के बाद खास तौर पर रिफाइनिंग और पेट्रोकैमिकल एसेट्स के वैल्युएशन में गिरावट आई है।

रॉयटर्स की रिपोर्ट में बताया गया है कि इसके बावजूद, रिलायंस 2019 में O2C बिजनेस के लिए किए गए 75 बिलियन डॉलर के वैल्युएशन पर जोर दे रही थी। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि कंसल्टेंट्स के द्वारा आकलन में वैल्युएशन में बड़ी कटौती दिखी। रिलायंस ने जामनगर को अपने क्लीन एनर्जी बिजनेस से अलग करने में मुश्किल को ट्रांजैक्शन पूरा नहीं करने की वजह बताया। Bernstein ने हाल ही के नोट में लिखा कि हालांकि, उन्हें बिजनेस और वैल्युएशन से जुड़ी दिक्कतें मुख्य वजहें लगती हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Pardeep

Related News

Recommended News