क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान, RBI ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव

punjabkesari.in Wednesday, Dec 08, 2021 - 11:37 AM (IST)

बिजनेस डेस्कः भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने ऐलान किया है कि रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है। अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा के नतीजे जारी करते हुए दास ने कहा है कि नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। रेपो रेट 4 फीसदी और रिवर्स रेपो रेट 3.35 फीसदी पर बरकरार रहेगा। आपको बता दें कि पिछले साल (साल 2020), के मार्च में RBI ने रेपो रेट में 0.75 फीसदी और मई में 0.40 फीसदी की कटौती की थी। इन कटौतियों के बाद रेपो रेट 4 फीसदी के रिकॉर्ड निचले स्तर पर आ गया था लेकिन इसके बाद से 9 बार की बैठकों में ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 

रियल GDP का अनुमान 
दास ने कहा कि एमपीसी के 6 सदस्यों में से 5 ने accomodative रुख बनाए रखने के पक्ष में वोट दिया। साथ ही मार्जिनल स्टेंडिंग फैसिलिटी को भी 4.25 फीसदी पर बरकरार रखा गया है। रियल जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 9.5 फीसदी बनाए रखा गया है लेकिन वित्त वर्ष 2022 की तीसरी तिमाही के लिए इसे घटाकर 6.6 फीसदी कर दिया गया है। पहले यह 6.8 फीसदी थी। साथ हि चौथी तिमाही के लिए इसे 6.1 फीसदी से घटाकर 6 फीसदी कर दिया गया है।

कोविड से निपटने के लिए तैयार
शक्तिकांत दास ने कहा कि वैश्विक स्पिलओवर को प्रबंधित करने के लिए हमारे पास मजबूत बफर है और मुद्रास्फीति मोटे तौर पर लक्ष्य के साथ संरेखित है। हम COIVD-19 से निपटने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हैं।

आरबीआई गर्वनर ने यह भी कहा कि OMO (ओपन मार्केट ऑपरेशन) के जरिए लिक्विडिटी घटाई जाएगी। जनवरी 2022 के बाद लिक्विडिटी घटाने की कोशिश होगी। जनवरी 2022 से Liquidity Adjustment की योजना पर काम शुरु हो सकता है। उन्होंने यह भी बताया कि Rev Repo Auctio के जरिए Liquidity Adjustment किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि गिल्ट्स और IPO के लिए UPI का दायरा बढ़ेगा। उन्होंने बताया कि गिल्ट्स और IPO के लिए UPI लिमिट 5 लाख तक की जाएगी। इसके साथ ही फोन पर आधारित यूनिफाइड पेमेंट्स लॉन्च करने की भी योजना है।

पेट्रोल डीजल पर आरबीआई का बयान
RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा, हाल में केंद्र सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर जो टैक्स घटाया है उससे कंज्यूमर की खरीदारी करने की क्षमता बढ़ी है। शक्तिकांत दास ने कहा, “हमारे पास मजबूत बफर स्टॉक है जिससे महंगाई पर काबू पाया जा सकता है। Covid-19 जैसी मुश्किलों से निपटने के लिए हम पूरी तरह तैयार हैं। अभी घरेलू अर्थव्यवस्था पर ओमीक्रोन का खतरा मंडरा रहा है।”

खास बातें

  • महंगाई को लेकर दास ने कहा कि आरबीआई ने 2021-22 में सीपीआई मुद्रास्फीति अनुमान 5.3% पर बरकरार रखा
  • आरबीआई गवर्नर दास का कहना है कि केंद्रीय बैंक वित्तीय स्थिरता बनाए रखने के लिए तरलता का प्रबंधन जारी रखेगा।
  • भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि  रेपो रेट बिना किसी बदलाव के साथ 4% रहेगा।
  • रिवर्स रेपो रेट भी बिना किसी बदलाव के साथ 3.35% रहेगा। मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी(MSF) रेट और बैंक रेट बिना किसी बदलाव के साथ 4.25% रहेगा। 
  • रिजर्व बैंक गवर्नर ने कहा कि टिकाऊ आधार पर महंगाई दर में कमी लाने के लिए पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में कटौती का फैसला किया गया।
  • गवर्नर दास ने मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए कहा कि प्राइस स्टेबिलिटी आरबीआई का प्रमुख सिद्धांत है क्योंकि यह विकास, स्थिरता को बढ़ावा देता है।
     

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

jyoti choudhary

Related News

Recommended News