कंपनियों के वित्तीय परिणाम, वैश्विक रुख से तय होगी शेयर बाजार की चाल

10/21/2019 3:31:55 PM

नई दिल्लीः बाजार विश्लेषकों का मानना है कि एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक तथा एसबीआई जैसी प्रमुख कंपनियों के दूसरी तिमाही नतीजों के साथ-साथ वैश्विक कारक सप्ताह के दौरान शेयर बाजार की दिशा तय करेंगे। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंसियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि कंपनियों के अब तक आए वित्तीय नतीजे ठीक ठाक रहने तथा विदेशी संस्थागत निवेशकों की लिवाली बने रहने से बाजार धारणा मजबूत रहने की उम्मीद है। इसके साथ ही निकट भविष्य में वैश्विक और घरेलू मोर्चों पर सकारात्मक गतिविधियों को देखते हुए भी बाजार धारणा बेहतर रहने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा, ‘‘ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के ब्रेक्जिट समझौते पर सहमत होने के साथ बाजार धारणा को बल मिलने की उम्मीद है। इसके अलावा अमेरिका तथा चीन के बीच व्यापार तनाव कम होने तथा व्यापार समझौते की संभावना से भी बाजार में तेजी की उम्मीद है।'' घरेलू मोर्चे पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक वृद्धि में तेजी लाने के लिए पिछले सप्ताह सुधारों को और आगे बढ़ाए जाने के संकेत दिए। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में हिस्सेदारी बेच रही है।

खेमका ने कहा, ‘‘इस प्रकार, वैश्विक और घरेलू मोर्चों पर सकारात्मक गतिविधियों के साथ कंपनियों के अब तक के वित्तीय परिणाम बेहतर रहने तथा विदेशी संस्थागत निवेशकों की लिवाली रूचि को देखते हुए निकट भविष्य में बाजार धारणा बेहतर बने रहने की उम्मीद है।'' इस सप्ताह जिन कंपनियों के वित्तीय परिणाम आने हैं, उनमें एचडीएफसी बैंक, एचसीएल टेक और एसबीआई समेत कुछ अन्य प्रमुख कंपनियां शामिल हैं। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के कारण सोमवार को शेयर बाजार बंद रहे।

मंगलवार को शेयर बाजार में रिलायंस इंडस्ट्रीज के वित्तीय परिणाम का असर देखने को मिल सकता है। आरआईएल का परिणाम पिछले सप्ताह शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद जारी किया गया । कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 18.6 फीसदी बढ़कर 11,262 करोड़ रुपए रहा। पिछले सप्ताह सेंसेक्स में 1,171.30 अंक यानी 3.07 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। घरेलू शेयर बाजार शुक्रवार को लगातार छठे कारोबारी दिवस में मजबूत हुआ। विदेशी पूंजी प्रवाह और ब्रेक्जिट को लेकर सकारात्मक परिणाम से बाजार धारणा मजबूत हुई। ब्रिटेन ओर यूरोपीय संघ लंबी बातचीत के बाद ब्रेक्जिट समझौते को लेकर सहमत हुए हैं।
 


Supreet Kaur

Related News