कोरोना का डंक! Vodafone-Idea कंपनी करने वाली है 1500 कर्मचारियों की छंटनी

2020-08-04T17:18:58.427

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की मार कई बड़ी कंंपनियों पर पड़ी है। महामारी के इस दौर में कंपनियों को अपने कर्मचारियों को सैलरी देने तक पैसे नहीं है। वहीं टेलिकॉम सेक्टर की कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone-Idea) के लिए संकट के बादल छाए हुए हैं। दरअसल नोकिया, एरिक्शन, हुवेई और जेडटीई जैसी कंपनियों ने वोडाफोन-आइडिया से 4G उपकरण के आर्डर लेना बंद कर दिया है। टेलीकॉम इक्विपमेंट बनाने वाली कंपनियों को लगता हैकि वोडाफोन-आइडिया नकदी के संकट से जूझ रही है और ऐसे में उनसे पैसे मिलने में दिक्कत आ सकती है। इसी वजह से  वोडाफोन आइडिया का एक्सपेंशन प्लान प्रभावित हो रहा है। 

PunjabKesari
1500 लोगों की छंटनी
वहीं, सर्विस की कमी के कारण वोडाफोन-आइडिया कंपनी को लगातार अपने ग्राहकों से हाथ धोना पड़ रहा है। बीते दिनों में हजारों ग्राहकों ने वोडाफोन-आइडिया की सर्विस लेना बंद कर दिया है। आर्थिक संकट से जूझ रही कंपनी ने 22 सर्किल के कामकाज को 10 सर्किल में ही समेट दिया है। अब ऐसे में अंदाजा लगाया जा रहा है कंपनी से लगभग 1500 लोगों की छंटनी की जा सकती है।

PunjabKesari
इस मामले से जुड़े एक अधिकारी ने ET को बताया कि पिछले 6 महीने से वोडाफोन आइडिया अपने कारोबार को रिस्ट्रक्चर करने में जुटी है। टेलीकॉम उपकरण बनाने वाले यूरोप के वेंडर ने नए आर्डर के पहले सिक्योरिटी के रूप में कुछ रकम लेने की मांग की है। चीनी वेंडर का पेमेंट प्लान थोड़ा फ्लैक्सिबल था, लेकिन अब उन्होंने भी नए आर्डर लेने बंद कर दिए हैं। नोकिया और एडिक्शन जैसी यूरोपीय कंपनियों ने वोडाफोन आइडिया से लिए पुराने ऑर्डर के अगेंस्ट बैंक के क्रेडिट लेटर अपने पास रखे हुए हैं। अब नए आर्डर के लिए कंपनिया दोबारा इसी सिक्योरिटी की मांग कर रही हैं।

बैंकों ने गारंटी देने से किया मना
बता दें कि अभी हाल में ही वोडाफोन आइडिया ने सुप्रीम कोर्ट को यह बताया था कि कोई भी बैंक गारंटी देने के लिए तैयार नहीं है क्योंकि मार्च के अंत तक उनका कर्ज 1,12,520 करोड़ रुपये पर पहुंच गया था। वोडाफोन आइडिया को अभी सरकार को एडजेस्टेड ग्रॉस रिवेन्यू के रूप में ₹50,000 करोड़ से अधिक की रकम चुकानी है।


Author

rajesh kumar

Related News