Alert! एप्स के जरिए हो रही धोखाधड़ी, लाखों लोगों के बैंक खाते हो चुके हैं खाली

2020-09-21T14:07:56.947

नई दिल्लीः देश में तकनीक के बढ़ने के साथ ऑनलाइन धोखाधड़ी तेजी से बढ़ रही है। आए दिन साइबर क्राइम की घटनाएं सामने आ रही हैं, जिनमें लोगों के खातों से लाखों रुपए उड़ा लिए जाते हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के कड़े नियमों के बावजूद बैंकों में धोखाधड़ी हो ही जाती है। जालसाज आम लोगों को लूटने का कोई न कोई तरीका ढूंढ लेते हैं। 

बिना OTP के हो रहा आर्थिक अपराध
अब धोखाधड़ी ने लिए एक और तरीका निकाल लिया गया है, जिसमें जालसाज बिना ओटीपी नंबर जाने ही आर्थिक अपराध को अंजाम दे रहे हैं। इसके लिए वे लोगों की मदद करने के बहाने किसी तरह एप डाउनलोड कराते हैं और उसी के जरिए सारी जानकारी चुराकर धोखाधड़ी को अंजाम देते हैं।

एप के जरिए ऐसे हो रही धोखाधड़ी
गूगल प्लेस्टोर पर मौजूद एप के जरिए ठगी की जा रही है। एप के जरिए पहले कर्ज की पेशकश की जाती है और फिर एप्लीकेशन फी के लिए 100 से 400 रुपए तक की रकम मांगते हैं, जिसके बाद उपयोगकर्ताओं को अन्य एप पर भेज दिया जाता है। इसके बाद शुल्क के रूप में हजारों रुपए खर्च हो जाते हैं लेकिन कर्ज नहीं मिलता। अब तक ऐसे घोटाले लाखों लोगों के साथ हो चुके हैं, जिनसे करीब 15 करोड़ रुपए लूट लिए गए हैं। 

इन बातों का रखें ध्यान
कोई भी असली एप अग्रिम शुल्क नहीं मांगती है। ज्यादातर वित्तीय कंपनियों या कर्जदाताओं द्वारा कर्ज की राशि से ही प्रोसेसिंग फी, आदि काट ली जाती है।
लोन एप्लीकेशन से पहले देख लें कि कर्जदाता का कोई पता उपलब्ध है या नहीं। अगर ऐसा नहीं है, तो संभव है कि वो आपका पैसा लेकर भाग जाए। 
आपको हमेशा बैंक के अधिकृत मोबाइल एप का ही इस्तेमाल करना चाहिए।


jyoti choudhary

Related News