जमीन पर रहकर पाएं आकाश की ऊंचाइयां, कर लो दुनिया मुट्ठी में

Wednesday, August 23, 2017 10:37 AM
जमीन पर रहकर पाएं आकाश की ऊंचाइयां, कर लो दुनिया मुट्ठी में

एक बार की बात है कि एक बाज का अंडा मुर्गी के अंडों के बीच आ गया। कुछ दिनों बाद उन अंडों में से चूजे निकले। बाज का बच्चा भी उनमें से एक था। वह उन्हीं के बीच बड़ा होने लगा। वह भी वही करता जो बाकी चूजे करते, मिट्टी में इधर-उधर खेलता, दाना चुगता और दिन भर उन्हीं की तरह चूं-चूं करता। बाकी चूजों की तरह वह भी बस थोड़ा-सा ही ऊपर उड़ पाता और पंख फडफ़ड़ाते हुए नीचे आ जाता। फिर एक दिन उसने एक बाज को खुले आकाश में उड़ते हुए देखा। बाज बड़ी शान से बेधड़क उड़ रहा था। तब उसने बाकी चूजों से पूछा, ‘‘इतनी ऊंचाई पर उडऩे वाला वह शानदार पक्षी कौन है?’’ 


तब चूजों ने कहा, ‘‘अरे वह बाज है, पक्षियों का राजा, वह बहुत ही ताकतवर और विशाल है लेकिन तुम उसकी तरह नहीं उड़ सकते क्योंकि तुम तो एक चूजे हो।’’ 


बाज के बच्चे ने इसे सच मान लिया और कभी वैसा बनने की कोशिश नहीं की। वह जिंदगी भर चूजों की तरह रहा और एक दिन बिना अपनी असली ताकत पहचाने ही मर गया।


दोस्तो, हममें से बहुत से लोग उस बाज के बच्चे की तरह ही अपनी असली ताकत जाने बिना एक साधारण जिंदगी जीते रहते हैं और अंत में वैसे ही मर जाते हैं। हम दूसरों को देखकर भी कभी-कभी यह मान लेते हैं कि हम उनके जैसे नहीं बन सकते जबकि वास्तविकता यह है कि हमसे पहले जिस किसी ने भी कोई काम किया है हम भी उसे कर सकते हैं। बस जरूरत है अपनी ताकत को जानने की, अपनी क्षमताओं को पहचानने की। एक बार अगर आपने अपनी ताकत को, अपनी प्रतिभा को, अपनी क्षमताओं को पहचान लिया तो फिर आपको बुलंदियों तक पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता। 


आप चूजे की तरह मत बनिए। अपने आप पर, अपनी काबिलियत पर भरोसा कीजिए। आप चाहे जहां हों, जिस परिवेश में हों, अपनी क्षमताओं को पहचानिए और आकाश की 
ऊंचाइयों पर उड़कर दिखाइए क्योंकि यही आपकी वास्तविकता है।
 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!