चाय उत्पादकों को राहत, बंद होंगे आइरन फाइलिंग के मामले

Thursday, November 2, 2017 4:38 PM
चाय उत्पादकों को राहत, बंद होंगे आइरन फाइलिंग के मामले

नई दिल्लीः सरकार ने चाय उत्पादाकों को बड़ी राहत देते हुए चाय की पत्तियों में आयरन फाइलिंग के सभी पुराने मामले वापस लेने का फैसला किया है। खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता सुनिश्चित करने वाले नियामक भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफ.एस.एस.ए.आई.) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी पवन कुमार अग्रवाल ने आज यहां एक कार्यक्रम के दौरान बताया कि चाय की पत्तियों में आयरन फाइलिंग की मात्रा तय सीमा से अधिक होने के सभी पुराने मामले वापस लेने का फैसला बुधवार को किया गया है तथा इस संबंध में अधिसूचना जल्द ही जारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण ने पहले ही आयरन फाइलिंग को लेकर कोई नया मामला दर्ज नहीं करने का निर्देश जारी किया है।

अग्रवाल ने बताया कि चाय की पत्तियों में आयरन फाइलिंग की मात्रा मापने के लिए कोई सटीक तरीका नहीं है। हर तरह के प्रयोग में अलग-अलग नतीजे आ रहे थे। यह मात्रा मिलिग्राम प्रति किलोग्राम के रूप में मापी जाती है। स्थानीय स्तर पर एक ही नमूने में इसकी मात्रा 50 से 5,000 मिलिग्राम प्रति किलोग्राम तक आ रही थी। जब नमूनों को दिल्ली लाकर जांच की गई तो वेरिएशन और बढ़ गया। इसके बाद सरकार ने नए मामले दर्ज नहीं करने का निर्देश दिया था।

सरकार ने पिछले साल दिसंबर में एक अधिसूचना के जरिए चाय में आयरन फाइलिंग की सीमा बढ़ाकर 250 मिलिग्राम प्रति किलोग्राम कर दी थी। अग्रवाल ने कहा कि इसके बाद भी एफ.एस.एस.ए.आई. की जानकारी में यह बात आई थी कि पुराने मामलों को लेकर चाय उत्पादकों की परेशानी बनी हुई है। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!