जीएसटी संग्रह जून में 56 प्रतिशत बढ़कर 1.44 लाख करोड़ रुपये रहा

punjabkesari.in Friday, Jul 01, 2022 - 07:43 PM (IST)

नयी दिल्ली, एक जुलाई (भाषा) वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि आर्थिक पुनरुद्धार जारी रहने और कर चोरी रोकने के प्रभावी कदमों के बूते जून महीने में माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह सालाना आधार पर 56 प्रतिशत बढ़कर 1.44 लाख करोड़ रुपये हो गया।

सकल जीएसटी संग्रह का यह आंकड़ा अबतक का दूसरा सर्वाधिक उच्च स्तर है। इससे पहले, अप्रैल में जीएसटी संग्रह रिकॉर्ड 1.68 लाख करोड़ रुपये रहा था।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि एक साल पहले जून, 2021 में जीएसटी संग्रह 92,800 करोड़ रुपये रहा था।

जून 2021 की तुलना में जून 2022 में वस्तुओं के आयात से प्राप्त राजस्व 55 फीसदी अधिक और घरेलू लेनदेन से राजस्व 56 फीसदी अधिक रहा।

जीएसटी दिवस पर आयोजित समारोह में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि जीएसटी संग्रह के लिए 1.4 लाख करोड़ रुपये की एक निचली सीमा बन चुकी है।

सीतारमण ने कहा कि जीएसटी लागू होने के पांच वर्षों के भीतर इसकी क्षमता दिखने लगी है और अब 1.40 लाख करोड़ रुपये का मासिक जीएसटी राजस्व संग्रह ‘‘मोटे तौर पर इसकी निचली सीमा रेखा है।’’
जीएसटी व्यवस्था शुरू होने के बाद से यह पांचवी बार है जब मासिक जीएसटी संग्रह 1.40 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया है और मार्च 2022 के बाद से लगातार चौथा महीना है जब संग्रह इतना अधिक रहा है।
उन्होंने कहा, ‘‘जून महीने के लिए सकल जीएसटी राजस्व संग्रह 1,44,616 करोड़ रुपये है, जो पिछले साल के इसी महीने से 56 प्रतिशत अधिक है। इसलिए हम दिखा रहे हैं कि जीएसटी राजस्व 1.40 लाख करोड़ रुपये से ऊपर बना हुआ है। इसलिए, 1.40 लाख करोड़ रुपये निचली रेखा है, हम उससे नीचे नहीं जा रहे हैं। हम उससे ऊपर रहेंगे।’’
मंत्रालय ने कहा कि मई 2022 में बने कुल ई-वे बिल 7.3 करोड़ रहे जो अप्रैल 2022 के 7.4 करोड़ ई-वे बिल से दो फीसदी कम है।

मई 2022 में जीएसटी राजस्व करीब 1.41 लाख करोड़ रुपये रहा था और अप्रैल में 1.68 लाख करोड़ रुपये के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर था।



यह आर्टिकल पंजाब केसरी टीम द्वारा संपादित नहीं है, इसे एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड किया गया है।

सबसे ज्यादा पढ़े गए

PTI News Agency

Related News

Recommended News