बदल चुका है पीएम की यादों से जुड़ा वडनगर रेलवे स्टेशन,  यहां चाय बेचते-बेचते मोदी ने सीखी थी हिंदी

2021-07-16T10:37:15.36

नेशनल डेस्क: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुनर्निर्मित वडनगर रेलवे स्टेशन का आज डिजिटल तरीके से उद्घाटन करेंगे, जहां वह बचपन में चाय बेचते थे। गुजरात के मेहसाणा जिले में स्थित यह कस्बा मोदी का गृहनगर है। यहां के स्टेशन पर  प्रधानमंत्री मोदी के पिता दामोदरदास मोदी की चाय की दुकान थी, जहां वह अपने पिता की मदद करते थे। 

PunjabKesari
पिछले कुछ वर्षों में वडनगर रेलवे स्टेशन का तो पूरा रूप-रंग बदला जा चुका है, लेकिन पीएम मोदी की यादों से जुड़ा यह टी स्टॉल आज भी वैसे ही है। प्रधानमंत्री ने एक इंटरव्यू में उन दिनों को याद करते हुए बताया थ कि बचपन के दिनों में वह स्टेशन पर चाय बेचने में अपने पिता की मदद करते थे। जब कभी प्लेटफॉर्म पर ट्रेन रुकती तो वह उसमें भी चाय बेचते थे। उन्होंने बताया कि  ट्रेन में चाय बेचते-बेचते ही उन्होंने हिंदी बोलना सीखी

PunjabKesari
पश्चिम रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक दीपक कुमार झा ने बताया कि वडनगर रेलवे स्टेशन उस मार्ग पर पड़ने वाले प्रमुख स्टेशनों में से एक है। चूंकि यह हेरिटेज सर्किट का भी हिस्सा है, इसलिए पर्यटन मंत्रालय ने मौजूदा स्टेशन की इमारत और उसके प्रवेश द्वार को हेरिटेज लुक देने के लिए 8.5 करोड़ रुपये खर्च किए।

PunjabKesari
वरेथा मेहसाणा जिले का एक छोटा सा गांव है और प्रसिद्ध तरंगा हिल के करीब है, जो एक लोकप्रिय पर्यटक के साथ-साथ धार्मिक स्थान भी है। अभी तक मेहसाणा स्टेशन तरंगा पहाड़ी से मीटर गेज रेलवे लाइन के माध्यम से जुड़ा हुआ था। चूंकि तरंगा हिल तक ब्रॉड गेज लाइन बिछाना तकनीकी रूप से संभव नहीं था, इसलिए  गेज को पहाड़ी से सिर्फ 3 किलोमीटर पहले वरेथा तक बदल दिया गश। प्रधानमंत्री आज उस 54 किलोमीटर खंड का भी उद्घाटन करेंगे, जिसे ब्रॉड गेज में परिवर्तित कर दिया गया है और इस लाइन को विद्युतीकृत भी कर दिया गया है। ऑनलाइन कार्यक्रम के दौरान वह  गांधीनगर-वरेथा मेमू ट्रेन को भी हरी झंडी दिखाएंगे।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vasudha

Recommended News