कोरोना वायरस के चलते महाराष्ट्र में गणेश की मूर्तियों की ऊंचाई सीमित की गई

2020-07-11T21:58:17.27

मुम्बईः कोरोना वायरस महामारी की छाया गणेशोत्सव पर भी पड़ती नजर आ रही है और महाराष्ट्र सरकार ने गणपति मंडलों द्वारा लगाई जाने वाली मूर्तियों की ऊंचाई चार फीट तक ही सीमित रखने का शनिवार को निर्णय लिया। गृह विभाग की अधिसूचना के अनुसार घरों में भी दो फुट से अधिक ऊंची मूर्ति स्थापित नहीं की जा सकती है। उसने गणेश मंडलों को मूर्तियों का विसर्जन स्थगित करने की सलाह भी दी है। यह अधिसूचना मुम्बई मेट्रोपोलिटन क्षेत्र, पुणे और अन्य शहरी क्षेत्रों में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से वृद्धि के बीच आई है। 
PunjabKesari
दस दिवसीय गणेश चतुर्थी महोत्सव 22 अगस्त से प्रारंभ होगा। इस दौरान ‘सार्वजनिक मंडल' पंडालों में मूर्तियां स्थापित करते हैं और बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं। मूर्तियों की ऊंचाई सीमित करने के अलावा सरकार ने लोगों से घरों में धातु या मार्बल की मूर्तियों का इस्तेमाल करने को कहा है। अधिसूचना के अनुसार यदि मिट्टी की मूर्तियां स्थापित की जाती हैं तो उसे घर में ही या नजदीक के कृत्रिम तालाबों में विसर्जित किया जाए। मूर्तियों के आगमन और विसर्जन के मौके पर इस साल जुलूस निकालने की अनुमति नहीं होगी क्योंकि उनमें बड़ी संख्या में भीड़ जुटती है। 
PunjabKesari
अधिसूचना के अनुसार समय की मांग भीड़ रोकना तथा लोगों का स्वास्थ्य एवं सुरक्षा सुनिश्चित करना है। अधिसूचना के अनुसार गणेश मंडलों को केवल स्वैच्छिक दान स्वीकार करना चाहिए तथा इश्तहारों का लक्ष्य भीड़ जुटाना नहीं बल्कि स्वास्थ्य जागरूकता एवं सामाजिक संदेश होना चाहिए। उसमें कहा गया है कि सांस्कृतिक कार्यक्रमों के बजाय स्वास्थ्य शिविर, रक्तदान शिविर लगाया जाना चाहिए तथा कोरोना वायरस, मलेरिया एवं डेंगू आदि के बारे में जागरूकता पैदा की जानी चाहिए। 

दूसरा, दैनिक आरती में भीड़ न हो तथा ध्वनि प्रदूषण नियमों का पालन किया जाना चाहिए। फेसबुक या अन्य माध्यम से दर्शन की ऑनलाइन व्यवस्था होनी चाहिए। मुम्बई के प्रसिद्ध लालबागचा राजा गणेश मंडल ने इस साल गणेशोत्सव नहीं मनाने का निर्णय लिया है। 


Pardeep

Related News