पश्चिम बंगाल चुनाव: शुभेंदु अधिकारी बोले, नंदीग्राम में लोगों पर गोली चलाने वालों को दीदी ने किया प्

2021-01-20T19:35:40.417

नेशनल डेस्क: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव में शुभेंदु अधिकारी बीजेपी के सबसे बड़े स्टार प्रचारक साबित हो रहे हैं। शुभेंदु अधिकारी एकतरफ ममता बनर्जी के गढ़ कोलकाता में हुंकार भरते हैं, तो नंदीग्राम में ममता बनर्जी के चुनौती को स्वीकार भी करते हैं। शुभेंदु ने कहा कि नंदीग्राम आंदोलन के दौरान जिन पुलिस वालों ने गोली चलाई थी उन्हें ममता बनर्जी ने पांच बार एक्शटेंशन दिया था। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने नंदीग्राम आंदोलन को बंगाल के किताबों में कहीं जगह नहीं दी।

ममता बनर्जी की नंदीग्राम सीट से हार तय
शुभेंदु अधिकारी ने इस जनसभा में दावा किया कि ममता बनर्जी की नंदीग्राम सीट से हार तय है। वहीं जनसभा में शुभेंदु अधिकारी ने ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी पर करारा तंज कसा है। उन्होंने कहा कि बीजेपी के सत्ता में आने पर दीदी को मिथ्या श्री और भतीजे को तोला श्री पुरस्कार दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि बंगाल को लूटने वाला ममता बनर्जी के भाईयों को सत्ता से हटाना है। वहीं नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्म दिवस 23 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पराक्रम दिवस के तौर पर मनाने का ऐलान किया है। मोदी की इस पहल की चर्चा करते हुए शुभेंदु अधिकारी ने प्रधानमंत्री के समर्थन में जमकर नारा लगाया।

सही में इस आंदोलन के हीरो
सिंगल हेंड से शुभेंदु अधिकारी ने टीएमसी के नेतृत्व के नाक में दम कर रखा है। दरअसल ममता बनर्जी ने नंदीग्राम जाकर आंदोलन के दौरान हताहत हुए लोगों को सहायता का ऐलान किया था। लेकिन इस दौरान पीड़ित लोगों का नाम उन्होंने लिस्ट देखकर पुकारा था। इस मुद्दे को शुभेंदु अधिकारी ने हाथों हाथ लपक लिया और मिदनापुर की रैली में ममता बनर्जी पर खुलकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि ममता दीदी हताश और भ्रमित हो गईं हैं क्योंकि अब वे नंदीग्राम पीड़ितों का नाम लिस्ट देख कर भी सही तरीके से नहीं पढ़ रहीं थी। वहीं रैली में शुभेंदु ने नंदीग्राम के पीड़ितों का नाम मुंह जबानी बोल ये बता दिया कि सही में इस आंदोलन के हीरो थे।

ममता बनर्जी के खेमे की आंखें चौधया गई है
एक बात तो तय है कि शुभेंदु अधिकारी में एक करिश्माई नेता का गुण छिपा हुआ है। भाषण देने और लोगों से जुड़ कर संवाद करने में उनका शानी नहीं है। बीजेपी के पास बंगाल में ऐसा कोई नेता नहीं था जो इसतरह का लहर पैदा कर सकता था। जिसमें ममता बनर्जी की सरकार बह जाती लेकिन शुभेंदु अधिकारी के तौर पर बीजेपी के पास एक ऐसा हीरा आ गया है। जिसकी चमक से निश्चित तौर पर ममता बनर्जी के खेमे की आंखें चौधया गई है। ममता बनर्जी भी खुद शुभेंदु अधिकारी को अपने लिए चुनौती मानती हैं तभी तो उन्होंने नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। खैर नतीजों का पता तो समय आने पर ही चलेगा। लेकिन ये कहना गलत नहीं होगा कि शुभेंदु अधिकारी ने बीजेपी खेमे में जोश और उम्मीद की एक लहर पैदा तो कर ही दिया है। 


Content Editor

rajesh kumar

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News