नवाब मलिक को बॉम्बे हाई कोर्ट से झटका, वानखेड़े फैमिली के खिलाफ अब नहीं कर पाएंगे बयानबाजी

11/25/2021 1:31:36 PM

नेशनल डेस्क: महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक को बॉम्बे हाई कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े के परिवार के खिलाफ किसी भी तरह की टिप्पणी या बयानबाजी करने पर रोक लगा दी है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े की याचिका पर सुनवाई करते हुए नवाब मलिक और उनके परिवार को निर्देश दिया है कि अब वे वानखेड़े फैमिली के खिलाफ कुछ भी पब्लिश नहीं करेंगे। कोर्ट की तरफ से नवाब मलिक को स्पष्ट किया गया है कि सीधे तौर पर या फिर इशारों में भी वानखेड़े परिवार के खिलाफ किसी तरह की बयानबाजी नहीं की जाएगी।

PunjabKesari

बता दें कि समीर वानखेड़े के पिता ने बुधवार को बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी कि नवाब मलिक को वानखेड़े परिवार के खिलाफ फिजूल की बयानबाजी करने से रोका जाए। सुनवाई के दौरान नवाब मलिक और वानखेड़े के वकील के बीच तीखी बहस देखने को मिली थी। इस बात पर भी बहस थी कि नवाब मलिक लगातार समीर वानखेड़े की बहन को लेडी डॉन कहकर संबोधित कर रहे थे। इस पर मलिक के वकील ने कहा था कि फ्लेचर पटेल नाम के शख्स ने ऐसा बोला था और उनके क्लाइंट ने सिर्फ उसे शेयर किया लेकिन कोर्ट ने इस दलील को खारिज करते हुए स्पष्ट कहा कि जब तक मामले की सुनवाई जारी है, ऐसी बयानबाजी और आरोप नहीं लगाए जाएंगे।

PunjabKesari

जस्टिस कथावाला ने नवाब मलिक के वकील से पूछा कि क्या अब उनके क्लाइंट ऐसी बयानबाजी करना बंद करेंगे। इसके जवाब में वकील ने कहा कि 9 दिसंबर तक नवाब मलिक अब वानखेड़े और उनके परिवार के खिलाफ न कोई पोस्ट शेयर करेंगे और न ही बयानबाजी। इसके बाद कोर्ट ने तल्ख अंदाज में कहा कि नवाब मलिक किसी के खिलाफ भी ऐसी बयानबाजी करना शोभा नहीं देता। जस्टिस जाधव ने कहा कि नवाब मलिक एक मंत्री हैं इसलिए उन्हें इतनी आसानी से सभी डॉक्यूमेंट मिल रहे हैं लेकिन एक नेता होने के तौर पर उनको इस तरह की बयानबाजी करना शोभा नहीं देता।

PunjabKesari

कोर्ट ने तो यहां तक कह दिया कि नवाब मलिक लगातार सोशल मीडिया के जरिए वानखेड़े परिवार पर आरोप लगा रहे हैं, क्या वो सिर्फ  मीडिया ट्रायल चाहते हैं। समीर के पिता ने अपनी दायर याचिका में कहा था कि मलिक द्वारा वानखेड़े परिवार के खिलाफ दिए गए बयान और सोशल मीडिया पोस्ट व समाचार चैनलों आदि को दिए गए इंटरव्यू ‘‘बेहद अपमानजनक'' थे क्योंकि इसमें ‘‘गलत तथ्य, आक्षेप और निष्कर्ष'' शामिल थे।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Related News

Recommended News