म्हारा गांव, जगमग गांव योजना में गांवों की संख्या हुई 5677

punjabkesari.in Saturday, Aug 13, 2022 - 08:55 PM (IST)

चण्डीगढ़, 13 अगस्त -(अर्चना सेठी ) हरियाणा के बिजली मंत्री चौधरी रणजीत सिंह ने कहा कि प्रदेश के लोगों को 24 घंटे निर्बाधित बिजली आपूर्ति करने को प्रदेश सरकार तत्पर है तथा स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर 49 और गांवों को म्हारा गांव, जगमग गांव योजना में शामिल किया गया है और इसके साथ ही 24 घंटे बिजली आपूर्ति वाले गांवों की संख्या 5628 से बढ़कर 5677 हो जाएगी।

चौधरी रणजीत सिंह ने कहा कि शहरों की तर्ज पर ग्रामीण क्षेत्रों में 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से 1 जुलाई, 2015 को कुरूक्षेत्र जिले के दयालपुर गांव से म्हारा गांव, जगमग गांव योजना की शुरूआत की गई थी। उन्होनें बताया कि 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के भिवानी, हिसार व जींद जिले के 11 केवी के 23 फीडरों से 49 गावों में बिजली उपलब्ध होगी इनमें भिवानी जिले के 29 गांवों में सिंघानी, मीठी, मतानी, मोरकां, ढाणी बकरान, माधोपुरा, हेतमपुरा, केहरपुरा, टिटानी,मालवास कुहाड़, मालवास देवसर, कुसंबी, धांगर, चंदावास, झुंडावास, बाबरवास, उमरवास, भेरीवास, जीतपुरा, लाडावास, लोहानी, पांडवान, बिहरी खुर्द, बेरला, जेवली, निनाण, नौरंगाबाद, बामला व फूलपुरा शामिल हैं। इसी प्रकार हिसार जिले के 12 गांवों में कालीरावण, फ्रांसी, गंगवा, ढाया, बुडाक, सादलपुर, किशनगढ़, खेड़ा बरवाला, खेरमपुर, कोहली, खेदड़ व देवीगढ़ पुनिया शामिल हैं। जींद जिले के 8 गांवों में साहनपुर, समा खेड़ी, रजना कलां,रजना खुर्द, बुरैन, कलवा,खरक सागर व अमरावली खेड़ा शामिल हैं।

बिजली मंत्री चौधरी रणजीत सिंह ने बताया कि 5677 गांवों में दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के 2428 गांव तथा उतर हरियाणा बिजली वितरण निगम के 3249 गांव शामिल हैं। उन्होनें बताया कि इससे पूर्व 10 जिलों नामतः गुरूग्राम, फरीदाबाद, रेवाड़ी, सिरसा, फतेहाबाद, पंचकूला,अंबाला, कुरूक्षेत्र, करनाल और यमुनानगर के 5628 गांवों में 24 घंटे बिजली आपूर्ति की जा रही थी। उन्होंने बताया कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य  बिजली दक्षता और बिजली के बिलों के भुगतान में सुधार कर बिजली आपूर्ति और गुणवता में वृद्वि करना है। बिजली पंचायत के माध्यम से नए कनेक्शन जारी करना, खराब मीटरों को बदलना, बिजली बिलों को ठीक करना, अनाधिकृत बिजली बिलों को नियमित करना, बिजली बिलों का प्रभावी वितरण, पुराने क्षतिग्रस्त कनेक्टरों को एबी केबल से बदलना तथा बिजली मीटरों को परिसर से बाहर स्थानांतरित  करना शामिल है। इस योजना के तहत ग्रामीणों से बिजली बिलों का भुगतान करने व बिजली चोरी रोकने के लिए आग्रह किया जाता है जिसके फलस्वरूप लाइन लॉस कम होता है। बिजली मंत्री ने बताया कि बिजली सुधारों की दिशा में एक बड़ा परिवर्तन आया है यहां तक कि हरियाणा के बिजली क्षेत्र में किए गए सुधारों की सराहना केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी की है और केन्द्र सरकार से एक टीम को हरियाणा में अध्ययन करने के लिए भेजने की बात की है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Archna Sethi

Related News

Recommended News