पांडव नगर में श्रद्धा जैसी एक और वारदात: इसी फ्रिज में रखे थे अंजन दास के अंग, तस्वीरों में देखें वो घर जहां किए गए उसके टुकड़े

punjabkesari.in Tuesday, Nov 29, 2022 - 10:59 AM (IST)

नेशनल डेस्क: श्रद्धा वालकर हत्याकांड की तरह ही पूर्वी दिल्ली के पांडव नगर में एक महिला द्वारा बेटे के साथ मिलकर अपने पति की कथित तौर पर हत्या करके उसके शव के 10 टुकड़े करने का मामला सामने आया है। यह जानकारी पुलिस ने सोमवार को दी। सोशल मीडिया पर उस फ्रिज और घर की तस्वीरें भी काफी वायरल हो रही है जिसमें अंजन दास के अंग रखे गए थे। 

PunjabKesari

पुलिस ने बताया कि इस मामले में आरोपी महिला तथा उसके बेटे को सोमवार को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि अंजन दास (45) की कल्याणपुरी निवासी उसकी पत्नी पूनम (48) और सौतेले बेटे दीपक (25) ने 30 मई को हत्या करके शव के 10 टुकड़े किए और उन्हें एक फ्रिज में रखा। पुलिस के अनुसार, इस जघन्य अपराध का कारण यह तथ्य था कि दास के अपनी सौतेली बेटी और दीपक की पत्नी के प्रति कथित तौर पर गलत इरादे थे। पुलिस के अनुसार साथ ही वह पूनम की कमाई बिहार में अपनी दूसरी पत्नी और आठ बच्चों को भी भेज रहा था। पूनम इलाके में घरेलू सहायिका के तौर पर काम करती थी। 

PunjabKesari

पुलिस के अनुसार अप्रैल में, पूनम ने अपने बेटे दीपक की मदद से दास की हत्या करने की साजिश रची। पुलिस ने कहा कि 30 मई को दोनों आरोपियों ने उसे नींद की गोलियों के साथ शराब पिलायी। पुलिस ने कहा कि मां-बेटे ने दास की गर्दन, छाती और पेट पर चाकू से वार किये और हत्या के बाद शव को कमरे में रखा गया था। पुलिस ने बताया कि अगले दिन सुबह तक शरीर से खून निकल गया और फिर वे उसके 10 टुकड़े करने लगे और उन्हें फ्रिज में रख दिया। पुलिस ने कहा कि आरोपियों ने अगले तीन से चार दिनों में उसके शरीर के अंगों को फेंक दिया। पुलिस को अब तक शव के छह हिस्से मिले हैं। 

PunjabKesari

मृतक का धड़ और हाथ का कोहनी से आगे का हिस्सा अभी तक नहीं मिला है। पुलिस ने कहा कि पांच जून को, पुलिस को पूर्वी दिल्ली के कल्याणपुरी के रामलीला मैदान में एक बैग में मानव शरीर का निचला हिस्सा मिला और कुछ दूरी पर, एक और हिस्सा भी बरामद किया गया, जो एक सफेद प्लास्टिक बैग में था। पुलिस के अनुसार, अगले कुछ दिनों में, उसके पैर, जांघ और खोपड़ी भी बरामद की गई जिसके बाद पांडव नगर पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 और 201 के तहत मामला दर्ज किया गया। पुलिस के अनुसार, जांच के दौरान पता चला कि 31 मई व एक जून की दरम्यानी रात को एक महिला व एक पुरुष ने प्लास्टिक की थैली को रामलीला मैदान में सुनसान जगह पर फेंका था। 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anil dev

Related News

Recommended News