भारी बारिश के बाद पानी-पानी हुई मुंबई, आज हाईटाइड का अलर्ट...लोगों को घरों में रहने के आदेश

2020-08-04T09:02:42.483

नेशनल डेस्कः मुंबई में सोमवार रात से ही जोरदार बारिश हो रही है जिसके चलते शहर के कई निचले इलाकों में पानी भर गया। किंग सर्कल की सड़कों पर तो भारिश बारिश के कारण करीब 2 फीट तक पानी जमा हो गया। इसके अलावा, हिंदमाता, सायन, माटुंगा, खार सबवे में भी जलजमाव हो गया। बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) के अनुसार, मुंबई में पिछले 10 घंटों में 230 मिमी से ज्यादा बारिश दर्ज की गई। अरब सागर के ऊपर मानसून के सक्रिय होने के कारण मुंबई में एक बार फिर से बारिश का दौर लौटा है।

PunjabKesari

4-5 को भारी बारिश का अलर्ट
वहीं भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने मुंबई और उसके उपनगरीय क्षेत्रों में अगले दो दिनों तक भारी बारिश होने की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग ने आज मुंबई में भारी बारिश के साथ-साथ हाईटाइड की भी चेतावनी जारी की है। विभाग के मुताबिक दोपहर 12:47 बजे मुंबई में हाईटाइड आ सकता है, इस दौरान यहां समुद्र की लहरें काफी ऊंची उठ सकती हैं। मौसम पूर्वानुमान बताने वाली एजेंसियों ने कहा कि अगले दो दिनों में महानगर और महाराष्ट्र के अन्य इलाकों में बारिश की तीव्रता बढ़ेगी। नगरवासियों को अगले दो दिनों तक बाहर नहीं निकलने की सलाह दी गई है। मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट वेदर ने कहा कि मुंबईवासियों को 4 और 5 अगस्त को बाहर जाने से बचने की सलाह दी जाती है। विभाग ने कहा कि 6 अगस्त से इसकी तीव्रता घटने लगेगी। 

PunjabKesari

समुद्र के पास न जाएं मछुआरे
मौसम विभाग ने मछुआरों को भी सलाह दी है कि वे बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण पूर्वी तट पर गहरे समुद्र में नहीं जाएं। आईएमडी के ओडिशा केंद्र ने कहा कि मंगलवार को बंगाल की उत्तरी खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने का अनुमान है। इससे राज्य के विभिन्न जिलों में भारी बारिश होगी। मौसम विज्ञान केंद्र ने मछुआरों को 6 अगस्त तक गहरे समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है क्योंकि 50 किमी प्रति घंटे तक की गति वाली हवाएं चल सकती हैं। मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश होने की संभावना है जहां अभी तक मानसून बहुत सक्रिय नहीं रहा है।

PunjabKesari

उत्तर भारत के कई राज्यों में उमस भरा मौसम
उत्तर भारत के विभिन्न राज्यों- दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में उमस भरा मौसम बना हुआ है। इन राज्यों में पिछले हफ्ते मानसून सक्रिय था। यह अब दक्षिण की ओर बढ़ गया है। यह अभी राजस्थान में गंगानगर और पिलानी, मध्य प्रदेश के ग्वालियर और उत्तर प्रदेश के बांदा, पश्चिम बंगाल के बहरामपुर आदि क्षेत्रों से होकर गुजर रहा है। इसकी वजह से राजस्थान के कई क्षेत्रों में रविवार से मानसून की बारिश हुई। इससे कई स्थानों पर पानी भर गया। वहीं असम में बाढ़ की स्थिति में सोमवार को काफी सुधार हुआ हालांकि एक और व्यक्ति की मौत हो गई। असम सरकार ने एक बुलेटिन में कहा है कि रविवार से बाढ़ प्रभावित लोगों की संख्या में 4.65 लाख की कमी आई है लेकिन 17 जिलों में लगभग 3.89 लाख लोग अब भी बाढ़ से प्रभावित हैं।

PunjabKesari


Seema Sharma

Related News