छठ पूजा पर पाबंदी को लेकर केजरीवाल के घर के बाहर प्रदर्शन कर रहे मनोज तिवारी हुए घायल

10/13/2021 10:24:56 AM

नई दिल्ली-  दिल्ली में छठ पूजा पर पाबंदी को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे बीजेपी नेता मनोज तिवारी घायल हो गए। दरअसल, दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा के आयोजन पर प्रतिबंध के खिलाफ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर मंगलवार को प्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा की गई पानी की बौछार की चपेट में आकर भाजपा के सांसद मनोज तिवारी बुरी तरह घायल हो गए।

भाजपा नेताओं ने बताया कि तिवारी (50) को सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था और सभी रिपोर्ट सामान्य आने के बाद सांसद को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

प्रदर्शनकारियों के साथ मिलकर तिवारी ने पुलिस बैरीकेड पार किया 
भाजपा की दिल्ली इकाई के एक नेता ने कहा कि प्रदर्शनकारियों के साथ मिलकर तिवारी ने पुलिस बैरीकेड पार किया और प्रदर्शन मार्च के लिए आगे बढ़ने लगे, इसी दौरान पानी की बौछार से उनके सीने और गर्दन पर चोट लगी। वह अन्य लोगों के साथ सड़क पर गिर पड़े जिससे उन्हें चोट आयी।

तिवारी की सभी रिपोर्ट सामान्य 
भाजपा नेता नीलकांत बक्शी ने कहा कि सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने तिवारी की जांच की और इलाज किया तथा सभी रिपोर्ट सामान्य आने के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गई।

 तिवारी बैरीकेड से गिर पड़े लेकिन कोई गंभीर चोट नहीं आई
पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पानी की बौछारों का उपयोग बैरीकेड पार करने की कोशिश कर रहे प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए किया गया। इसी दौरान तिवारी बैरीकेड से गिर पड़े लेकिन उन्हें कोई गंभीर चोट नहीं आई और उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गयी है।

दिल्ली में सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा पर प्रतिबंध
बता दें कि इससे पहले सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कोरोना वायरस संक्रमण महामारी के मद्देनजर लिया गया है। लेकिन, भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदर्श गुप्ता ने प्रदर्शन के दौरान कहा कि भाजपा नीत नगर निगम छठ पूजा के आयोजन की व्यवस्था करेंगे।

केजरीवाल का यह तुगलकी फरमान है
आदर्श गुप्ता  ने कहा कि केजरीवाल नेतृत्व वाली सरकार संभवत: छठ पूजा की तैयारियां ना करे, लेकिन भाजपा शासित नगर निगम इसकी समुचित व्यवस्था करेंगे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने दिल्ली सरकार के फैसले को ‘‘तुगलकी फरमान’’ बताया और कहा कि उनकी पार्टी इसका विरोध करती है क्योंकि यह पूर्वांचलवासियों की धार्मिक आस्था पर हमला है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anu Malhotra

Recommended News