See More

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर बोले राजनाथ सिंह, बालाकोट एयर स्ट्राइक में शामिल थी भारत मां की बहादुर ब

2020-03-08T20:46:10.29

नेशनल डेस्कः पूरी दुनिया में आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जा रहा है। भारत में भी महिला दिवस की धूम रही। महिला दिवस के मौके पर देशभर में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। एक कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी हिस्सा लिया। राजनाथ सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हाल ही में बालाकोट एयर स्ट्राइक की पहली मनाई और उस सफल अभियान में भी  स्क्वॉड्रन लीडर मिन्टी अग्रवाल जैसी भारत माँ की बहादुर बेटियां शामिल थी। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण पीएम मोदी के नेतृत्व में सरकार के लिए बुनियादी विषय रहा है। समाज में महिलाओं को सशक्त करने के लिए भारत सरकार द्वारा अनेक नीतियों का निर्माण और कार्यक्रमों का संचालन किया गया है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नीति आयोग द्वारा कई महिला उद्यमियों को सम्मानित किया गया जिन्होंने अपनी इच्छाशक्ति के बल पर ‘बदलते भारत’ की एक नई तस्वीर पेश की है। आज शायद ही जीवन का कोई ऐसा क्षेत्र हो जहां महिलाएं पुरूषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ में कदमताल न कर रही हो।

वहीं, सिंह ने आगे कहा कि भारतीय नौसेना में पहली बार एक युवा महिला अधिकारी ने पिछले साल पायलट बन इतिहास रचा है। भारतीय वायु सेना में भी फ्लाइट लेफ्टिनेंट अवनि चतुर्वेदी, मोहना सिंह और भावना कंठ के रूप में देश को पहली बार महिला कॉम्बैट फाइटर पायलट्स मिलीं। ये सभी हमारे देश के लिए प्रेरणा की स्रोत हैं।

सिंह ने कहा कि हाल ही में बालाकोट एयर स्ट्राइक की पहली वर्षगांठ मनाई और उस सफल अभियान में भी  स्क्वॉड्रन लीडर मिन्टी अग्रवाल जैसी भारत माँ की बहादुर बेटियां शामिल थी। अदम्य साहस प्रदर्शन के कारण उन्हें युद्ध सेवा मेडल से नवाज़ा गया। यह गौरव प्राप्त करने वाली वे पहली महिला अधिकारी हैं।

रक्षा मंत्री ने कहा कि अगर महिलाओं के रास्ते में आने वाली अड़चनों को दूर हटाया जाए तो कम से कम 1.5 करोड़ नए व्यवसाय महिलाओं द्वारा शुरू किए जा सकते हैं। महिलाओं द्वारा इन 1.5 करोड़ व्यवसायों को करने से इस देश में करीब 6.4 करोड़ नए रोज़गार के अवसर पैदा होंगे।

राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत के विकास में महिलायें कंधे से कंधा मिलाकर आगे आए। एक समृद्ध और समर्थ भारत के निर्माण में महिलायें भी बराबर की साझीदार हों। महिलाओं के विकास का कोई भी रास्ता अवरूद्ध न होने पाये, यह सुनिश्चित करने में हमारी सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी।

 


Yaspal

Related News