मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर विदेश मंत्रालय बोला, डोमिनिका की सरकार से चल रही बातचीत

2021-06-17T19:36:42.93

नेशनल डेस्क: विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के जल्द प्रत्यर्पण अथवा उसे सौंपे जाने को लेकर डोमिनिका की सरकार से सक्रिय संवाद बनाये हुए हैं ताकि उसे अपने देश में न्याय के कटघरे में खड़ा किया जा सके। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने साप्ताहिक प्रेस वार्ता में संवाददाताओं से कहा, ‘मेहुल चोकसी अभी डोमिनिका में हिरासत में है और वहां उसके खिलाफ कानूनी प्रक्रिया चल रही है।'

मामले की सुनवाई 25 जून तक स्थगित
उन्होंने कहा कि सरकार चोकसी के जल्द प्रत्यर्पण अथवा उसे सौंपे जाने को लेकर डोमिनिका की सरकार से सक्रिय संवाद बनाये हुए हैं ताकि उसे अपने देश में न्याय के कटघरे में खड़ा किया जा सके। बागची ने कहा कि डोमिनिका की सरकार को मेहुल चोकसी के भारत में आपराधिक आरोपों से जुड़े मामलों एवं भारतीय नागरिकता से जुड़े विषयों के बारे में बताया गया है । डोमिनिका की मजिस्ट्रेट अदालत ने चोकसी के कैरिबियाई द्वीपीय देश में कथित अवैध तरीके से प्रवेश करने के मामले की सुनवाई 25 जून तक के लिये स्थगित कर दी है।

चार जनवरी 2018 को भारत से हुआ था फरार
गौरतलब है कि मेहुल चोकसी के खिलाफ भारत में धोखाधड़ी का मामला चल रहा है। भगोड़े हीरा कारोबारी चोकसी के खिलाफ डोमिनिका की अदालत में कानूनी कार्यवाही चल रही है। चोकसी को एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमयी तरीके से गायब होने के बाद 24 मई को डोमिनिका में अवैध प्रवेश के मामले में गिरफ्तार किया गया था। मेहुल चोकसी कानूनी प्रक्रिया से बचने के लिए चार जनवरी 2018 को भारत से फरार हो गया। इसके बाद उसने 2017 में कैरेबियाई द्वीपीय देश एंटीगुआ और बारबूडा की नागरिकता ली।

फर्जी तरीके से पीएनबी से हासिल किए 6,344.96 करोड़ रुपये किये हासिल 
पिछले महीने 23 मई को चोकसी संदिग्ध परिस्थितियों में एंटीगुआ से लापता हो गया था। बाद में उसे डोमिनिका से पकड़ा गया जहां वह अवैध तौर पर प्रवेश के लिए गिरफ्तार किया गया और अदालती कार्यवाही का सामना कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सीबीआई ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले में अपनी जांच में पता लगाया है कि भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के स्वामित्व वाली कंपनियों ने कथित रूप से फर्जी वचन पत्रों (लेटर्स ऑफ अंडरटेकिंग) और विदेशी साख पत्रों (फॉरेन लेटर्स ऑफ क्रेडिट) का इस्तेमाल कर पीएनबी से 6,344.96 करोड़ रुपये हासिल किये। सीबीआई ने पिछले सप्ताह मुंबई में एक विशेष अदालत में पूरक आरोपपत्र में ये बातें कही हैं। एजेंसी ने कहा कि पीएनबी के कर्मचारियों ने कथित रूप से चोकसी से हाथ मिलाकर बैंक के साथ धोखाधड़ी की। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

rajesh kumar

Recommended News