कोवैक्सीन की बूस्टर खुराक Omicrone समेत कई वेरिएंट से बचाती है: सर्वे का दावा

punjabkesari.in Saturday, Apr 09, 2022 - 04:42 PM (IST)

नई दिल्ली: कोविड-19 रोधी टीकाकरण के तहत पहली 2 खुराकें लेने के 6 महीने बाद कोवैक्सीन की बूस्टर खुराक लेने से ओमीक्रोन समेत सार्स-सीओवी-2 के चिंताजनक स्वरूप (VOC) के खिलाफ प्रतिरक्षा मजबूत होती है तथा गंभीर बीमारी से सुरक्षा मिलती है। 
 

ICMR और भारत बायोटेक के एक अध्ययन में यह बात कही गई है। पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) में वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. प्रज्ञा यादव ने कहा कि ज्यादातर टीकों के लक्षित क्षेत्र के भीतर कम से कम 30 उत्परिवर्तन के साथ ओमीक्रोन फैलने से और टीके से उत्पन्न एंटीबॉडीज के इस पर असर न होने से इसका प्रसार बढ़ा तथा फिर से संक्रमण फैला। उन्होंने कहा कि इसके अलावा अन्य मान्यता प्राप्त टीकों के मामले में भी वायरस के चिंताजनक स्वरूप (VOC) पर एंटीबॉडी का असर कम होने की खबरों ने दुनियाभर में चिंता पैदा की। 
 

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) और कोवैक्सीन के निर्माता भारत बायोटेक ने यह अध्ययन जनवरी में किया था और इसके नतीजे 24 मार्च को ‘जर्नल ऑफ ट्रैवल मेडिसिन' में प्रकाशित हुए। एनआईवी के एक अन्य वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. गजानन सकपाल ने कहा कि अध्ययन में शामिल जिन लोगों को बूस्टर खुराक दी गई। उनमें B.1 और VOC-डेल्टा, बीटा और ओमीक्रोन स्वरूपों के लिए एंटीबॉडी प्रतिक्रिया अधिक देखी गई।
 

 उन्होंने कहा कि इससे यह संकेत मिलता है कि कोवैक्सीन की बूस्टर खुराक विषाणु को निष्प्रभावी करने संबंधी एंटीबॉडी प्रतिक्रिया पैदा करती है और प्रभावी तरीके से सार्स-सीओवी-2 के कई स्वरूपों को नष्ट कर देती है। सरकार ने शुक्रवार को घोषणा की कि 18 साल से अधिक आयु के लोग 10 अप्रैल से निजी टीकाकरण केंद्रों पर कोविड-19 रोधी टीके की एहतियाती खुराक ले सकते हैं।  


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Anu Malhotra

Related News

Recommended News