भारत की मदद से नेपाल में खुला बौद्ध मठ,  हर्षवर्धन श्रृंगला बोले- दोनों देशों को जोड़ता है यह धर्म

2020-11-28T13:02:29.267

नेशनल डेस्क: विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने नेपाल के गोरखा जिले में भारत की सहायता से निर्मित तीन स्कूलों का शुक्रवार को उद्घाटन किया। यह जिला 2015 में आए भूकंप का केंद्र था। नेपाल में अप्रैल 2015 में आए 7.8 तीव्रता के भूकंप ने काफी तबाही मचाई थी जिसमें करीब 9000 लोगों की मौत हो गई थी जबकि करीब 22,000 अन्य घायल हो गए थे।

 

भारतीय दूतावास ने यहा ट्वीट किया कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने गोरखा में ‘भारत की पुनर्निर्माण सहायता: लोगों में निवेश और शिक्षा में निवेश' के तहत निर्मित तीन स्कूलों का उद्घाटन किया।  विदेश मंत्रालय ने स्कूल के उद्घाटन कार्यक्रम का एक वीडियो भी ट्वीट किया। विदेश सचिव ने मनंग जिले में भारत की सहायता से पुनरुद्धार किये गए एक बौद्ध मठ का भी उद्घाटन किया।

 

मंत्रालय ने ट्वीट किया कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने मनंग जिले में भारत की मदद से पुनरुद्धार के बाद तैयार ताशोप (तारे) गोम्पा मठ का भी उद्घाटन किया।  मंत्रालय ने श्रृंगला को उद्धृत करते हुए कहा कि बौद्ध धर्म भारत और नेपाल के बीच एक महत्वपूर्ण संपर्क-सूत्र है। इससे पहले यहां विदेश नीति थिंक-टैंक ‘एशियन इंस्टीयूट ऑफ डिप्लोमैसी एंड इंटरनेशनल अफेयर्स' द्वारा आयोजित एक परिचर्चा में श्रृंगला ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच का रिश्ता ‘जटिल' है और उनकी सभ्यतागत धरोहर, संस्कृति एवं रीति-रिवाज आपस में मिलते हैं। उन्होंने 2015 में नेपाल में आये विनाशकारी भूकंप के बाद भारत द्वारा त्वरित रूप से उठाये गये कदमों का दृष्टांत देते हुए कहा कि भारत अपने आप को नेपाल का स्वाभाविक और स्वत: प्रवृत सहयोगकर्ता के रूप में देखता है। 


vasudha

Recommended News