अब कभी नजर नहीं आएगा यह मुस्कुराता चेहरा...टूटी वेदिका की सांसें...दुनिया की सबसे मंहगी दवा से भी नह

2021-08-03T11:21:23.187

नेशनल डेस्क: वेदिका शिंदे का नाम सुनते ही एक प्यारा-सा चेहरा और मुस्कान आंखों के सामने आ जाती है जिसने पिछले दिनों देश के कई लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा। पर अब वो मुस्कुराता हुआ चेहरा कभी नजर नहीं आएगा, वेदिका अब सिर्फ यादों में जिंदा रहेगी। हम बात कर रहे हैं पुणे की 11 महीने की बच्ची वेदिका शिंदे की जो स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी (एसएमए टाइप ई-1) से जूझ रही थी। वेदिका को बचाने के लिए 16 करोड़ रुपए का इंजेक्शन दिया गया था लेकिन 1 अगस्त को उसने दुनिया को अलविदा कह दिया।

PunjabKesari

वेदिका के पिता सौरभ शिंदे ने बताया कि इंजेक्शन देने के बाद वेदिका की हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा था लेकिन रविवार (1 अगस्त) को अचानक उसका ऑक्सीजन लेवल गिर गया और उसे सांस लेने में दिक्कत होने लगी। वेदिका को परिजन पास के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन इस दौरान ही उसकी मौत हो गई।

PunjabKesari

वेदिका का इलाज करवाने के लिए अमेरिका से 16 करोड़ रुपये की इंजेक्शन मंगवाया गया था, देशभर से वेदिका के लिए 14.3 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद जुटाई गई थी। केंद्र सरकार की तरफ से भी अमेरिका से आने वाले इंजेक्शन के आयात शुल्क को माफ कर दिया गया था लेकिन इसके बावजूद मासूम को बचाया नहीं जा सका।

PunjabKesari

वेदिका एस.एम.ए. टाइप-1 से पीड़ित थी जो एक दुर्लभ अनुवांशिक बीमारी है। इस बीमारी के कारण 2 साल की उम्र से पहले ही बच्चे की जान जाने का खतरा रहता है। वेदिका को 15 जून को को इंजेक्शन दिया गया था और उसके बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी।

PunjabKesari

इसके बाद से वेदिका की हालत में सुधार हो रहा था लेकिन वह काफी कमजोर हो गई थी और मसल में कमजोरी के कारण उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी और आखिरकार 1 अगस्त रविवार रात को उसने अंतिम सांस ली। वेदिका के इस तरह चले जाने से उसके परिवार वाले काफी सदमे में हैं, उनकी विश्वास था कि इतना मंहगा टीका लगने के बाद उनकी बेटी ठीक हो जाएगी।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Seema Sharma

Recommended News