26/11 मुंबई हमले की बरसीः दुनियाभर में Pak के खिलाफ उठी आवाज, US-कनाडा में प्रदर्शन

2020-11-28T15:32:05.14

 

इंटरनेशनल डेस्कः मुंबई हमले की बरसी पर भारत में ही नहीं अमेरिका, कनाडा व जापान सहित कई मुल्कों में भी पाकिस्तान व आतंकवाद के विरोध में प्रदर्शन किए गए। हिंदू फोरम कनाडा के सदस्यों ने 2008 में मुंबई पर पाकिस्तान के आतंकवादी हमले के खिलाफ ग्रेटर टोरंटो क्षेत्रों के कई शहरों में एक एलईडी ट्रक विज्ञापन अभियान का आयोजन किया। तीन तरफ बिलबोर्ड वाले एक ट्रक ने कनाडा के सबसे अधिक आबादी वाले प्रांत ओन्टेरियो के विधान सभा से अपना अभियान शुरू किया। बिलबोर्ड्स पर #MumbaiNov26 #PakistaniTerror #CanadiansAwaitJustice जैसे स्लोगन लिखे गए थे ।

 

मुंबई हमले में दो कनाडाई भी मारे गए और कई घायल हो गए थे । हिंदू फोरम कनाडा ने विधान सभा से मांग की कि वह कनाडा के पीड़ितों के साथ-साथ सभी पीड़ितों के लिए पाकिस्तान पर दबाव बनाए । हज़ारों कनाडाई लोगों ने हिंदू फोरम कनाडा की स्लाइड्स को संदेश को देखा मुंबई आतंकी हमले के पीड़ितों के परिवारों के लिए न्याय की मांग की। अमेरिका के न्यूयॉर्क में भारत के महावाणिज्य दूत रंधीर जैसवाल ने कहा है कि पाकिस्तान को मुंबई हमले के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनाइन ने पेरिस में मुंबई हमले में मरने वालों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि फ्रांस और भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में एक साथ हैं।

 

इसराईल में मुंबई हमलों में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई। यूरोपियन सांसदों ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साथ देने का वादा किया है। उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। इधर मुंबई हमले के विरोध में अमेरिका और जापान में पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन हुए। वाशिंगटन में भारतीय-अमेरिकन नागरिकों ने कैपीटोल हिल पर पाकिस्तान के खिलाफ जबर्दस्त प्रदर्शन किया। यहां लोगों के हाथों में पाक के खिलाफ बैनर-पोस्टर थे। यहां के भारतीयों ने उम्मीद जताई कि अमेरिका का नया प्रशासन आतंकवाद के मामले में पाकिस्तान पर लगाम लगाएगा।

 

टोक्यो में भारतीय प्रवासियों और अन्य समुदायों के लोगों ने पाकिस्तानी दूतावास के बाहर प्रभावी प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने पाक के खिलाफ नारेबाजी की और हमले के दोषियों को अभी तक सजा न देने पर विरोध जताया। बता दें कि मुंबई में 2008 के इस्लामी आतंकवादी हमले में 160 से अधिक लोग मारे गए। भारत ने हमलों के लिए पाकिस्तान स्थित लश्कर-ए-तैयबा (LeT) समूह के उग्रवादियों को जिम्मेदार ठहराया। भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने लश्कर की स्थापना करने वाले हाफिज सईद को हमले का मास्टरमाइंड बताया है।


Tanuja

Recommended News