Vighnaraja Sankashti Chaturthi: धनदायक है यह टोटका, केवल एक बार में ही बना देगा धनवान

09/24/2021 7:56:00 AM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Vighnaraja Sankashti Chaturthi 2021 Date: हिंदू पंचांग के अनुसार कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी के रुप में मनाए जाने का विधान है। आज 24 सितंबर, शुक्रवार को आश्विन मास में पड़ने वाली विघ्नराज चतुर्थी है। इसके स्वामी श्री गणेश हैं। बहुत से जानक अपने विध्नों का नाश करने के लिए इस रोज़ व्रत करते हैं। चन्द्र दर्शन करने के बाद ही भोजन ग्रहण करते हैं। वैसे तो ये व्रत अधिकतर महिलाएं ही करती हैं लेकिन पुरुष भी इस व्रत को कर सकते हैं।

PunjabKesari Vighnaraja Sankashti Chaturthi

Sankashti chaturthi shubh muhurat संकष्टी चतुर्थी शुभ मुहूर्त
चतुर्थी तिथि का प्रारंभ 24 सितंबर की सुबह 08.29 पर होगा और इसका समापन 25 सितंबर, शनिवार को सुबह 10.36 पर होगा। मान्यता है की गणेश जी का जन्म दोपहर को हुआ था इसलिए उनकी पूजा इसी समय करना उत्तम रहता है। पूजा करने से पहले राहुकाल का अवश्य ध्यान रखें। इस दौरान पूजा न करें। वैसे आज के शुभ दिन पर सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है। अभिजित मुहूर्त सुबह 11.49 से लेकर दोपहर 12.37 तक रहेगा। विजय मुहूर्त दोपहर 02.14 से लेकर दोपहर 03.02 तक है।

PunjabKesari Vighnaraja Sankashti Chaturthi

Ganesh Chaturthi Totke धन प्राप्ति में गणेश जी की महत्वपूर्ण भूमिका
विघ्नराज संकष्टी चतुर्थी के दिन कभी भी किसी भी समय हाथी के सामने वाले पैर के नीचे की मिट्टी आवश्यकतानुसार प्राप्त करें। उस मिट्टी में सिंदूर और घी मिलाकर गणेश जी की प्रतिमा बनाएं। उस प्रतिमा को पीले कपड़े के आसन पर स्थापित करें। बहुत ही सौभाग्यशाली धनदायक है यह टोटका।

PunjabKesari Vighnaraja Sankashti Chaturthi

Shri Ganesh Mantra इन मंत्रों के जाप से गणेश जी होंगे प्रसन्न, सभी मनोकामनाएं होंगी पूर्ण-

तांत्रिक गणेश मंत्र
ॐ ग्लौम गौरी पुत्र, वक्रतुंड, गणपति गुरू गणेश।
ग्लौम गणपति, ऋदि्ध पति, सिदि्ध पति। मेरे कर दूर क्लेश।।

गणेश गायत्री मंत्र 
ॐ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात।।

गणेश कुबेर मंत्र
ॐ नमो गणपतये कुबेर येकद्रिको फट् स्वाहा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Recommended News