Vastu- घर में बढ़ने लगे चूहों की संख्या तो समझ जाएं...

punjabkesari.in Wednesday, Dec 08, 2021 - 05:29 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
वास्तु शास्त्र में ऐसी बहुत सी चीज़ों के बारे में बताया गया है जिनके घर में होने से न केवल घर में बल्कि वहां रह रहे लोगों के जीवन में वास्तु दोष पैदा हो जाते हैं। पर क्या आप जानते हैं इस सूची में केवल वस्तुओं का ही नहीं बल्कि कुछ जीव-जंतुओं का नाम भी शामिल हैं। जिनमें से एक है चूहे। जी हां, आप में से कई लोग होंगे जो घर में चूहों की तादाद बढ़ने को अच्छा मानते हैं तो वहीं कई लोग इसे बुरे संकेत के तौर पर भी देखते हैं। परंतु असल में क्या अच्छा संकेत होता है या नहीं। इस बारे में सटीक जानकारी कम ही लोगों को है। तो चलिए आज हम आपके बताते हैं कि वास्तु शास्त्र का इस बारे में क्या कहना है। मान्यता के अनुसार जिस घर में काले चूहों की संख्या अधिक हो जाती है वहां किसी परेशानी के अचानक होने का अंदेशा रहता है।वहीं ये भी माना जाता है कि चूहे हमारे घर की शांति, समृद्धि को धीरे-धीरे कुतर कर खा जाते हैं।

और यदि घर में काले रंग के चूहे बहुत अधिक तादाद में दिन और रात भर घूमते रहते हों तो, समझ लें कि किसी रोग या शत्रु का आक्रमण होने वाला है। वास्तुशास्त्र के अनुसार चूहा नकारात्मक और अज्ञानी शक्तियों का प्रतीक माना जाता है। वहीं चूहों की मौजूदगी से घर-परिवार के लोगों की बुद्धि का विनाश होता है। यदि आप किसी खास कार्य के लिए घर से निकल रहे हैं और ठीक उसी समय आपके सामने से चूहा निकल जाए, चूहा आपका रास्ता काट दे तो इसे शुभ संकेत नहीं समझा जाता है।

जिस तरह चूहों को अशुभता का कारक माना जाता है उसी तरह छछूंदरों के घर में आने में को बहुत ही शुभ माना जाता है। कहते हैं कि जिस घर में छछूंदरें घूमती हैं वहां लक्ष्मी की वृद्धि होती है। लेकिन चूहा तो गणपति बप्पा का वाहन है। तो उसे मारना गलत होगा। चूहे को मारने से घर-परिवार पर नकारात्मकता भी हावी हो जाती है। चूहे घर के कोनों में बिल बनाकर रहते हैं। वहां अंधेरे का अस्तित्व कायम होता है, जिससे उनमें भी नैगेटिव शक्तियों का प्रभाव स्थिर रहता है। जब घर में चूहे आने लगे तो समझ जाएं कुछ अनिष्ट होने वाला है। इस अशुभ प्रभाव से बचने के लिए बप्पा को मोदक का भोग लगाएं।

तो वहीं घर में 50 ग्राम फिटकरी का टुकड़ा रखने से नकारात्मकता हावी नहीं होती। 1 महीने के बाद पुराने टुकड़े को किसी नदी में बहा दें और उसके स्थान पर नया टुकड़ा रख दें। इस उपाय से वास्तुदोष का भी शमन होता है। इसी तरह ऊंट के दाएं पैर का नाखून घर में रखने से चूहे सदा के लिए घर से बाहर भाग जाते हैं। इसके अलावा आपको बता दें कि गणेश जी का चित्रपट अथवा स्वरूप घर में स्थापित करने से पहले ध्यान रखें उसमें मोदक और मूषक अवश्य होने चाहिए। इन दो चीजों के अभाव में गणेश प्रतिमा अप्रभावी होती है। अगर आप इन छोटे-छोटे संकेतों को ध्यान में रखते हैं तो यकीनन आपके जीवन में कोई परेशानी नहीं आएगी।

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News