Ramayana: कभी न घबराओ कठिनाइयों से श्राप भी बनता है वरदान

2021-06-08T09:03:47.443

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Ramayana: महाराज दशरथ को जब संतान प्राप्ति नहीं हो रही थी, तब वह बड़े दुखी रहते थे। ऐसे समय में उनको एक बात से बड़ा हौसला मिलता था जो कभी उन्हें निराश नहीं होने देता था। वह था श्रवण के पिता का श्राप...

PunjabKesari Ramayana

दशरथ जब दुखी होते थे तो उन्हें श्रवण के पिता का दिया श्राप याद आ जाता... (कालिदास ने रघुवंशम में इसका उल्लेख किया है।)
श्रवण के पिता ने यह श्राप दिया था कि ‘‘जैसे मैं पुत्र के वियोग में तड़प-तड़प कर मर रहा हूं, वैसे तू भी औलाद के वियोग में तड़प-तड़प कर मरेगा।’’

महाराज दशरथ को पता था कि यह श्राप फलीभूत होगा और इसका मतलब है कि मुझे इस जन्म में पुत्र जरूर प्राप्त होगा। (तभी तो उसके शोक में तड़प कर मरूंगा) यानी यह श्राप दशरथ के लिए संतान प्राप्ति का संयोग लेकर आया।

PunjabKesari Ramayana

ऐसी ही घटना सुग्रीव के साथ हुई। वाल्मीकि रामायण में वर्णन है कि सुग्रीव जब माता सीता की खोज में वानरवीरों को पृथ्वी की अलग-अलग दिशाओं में भेज रहे थे...तो उसके साथ ही उन्हें यह भी बता रहे थे कि किस दिशा में तुम्हें कौन-सा स्थान या देश मिलेगा और उन्हें किस दिशा में जाना या नहीं जाना चाहिए।

प्रभु श्री राम सुग्रीव का यह भौगोलिक ज्ञान देखकर हत्प्रभ थे। उन्होंने सुग्रीव से पूछा, ‘‘सुग्रीव तुम्हें यह सब कैसे पता है?’’

सुग्रीव ने विनम्रतापूर्वक श्री राम से कहा, ‘‘मैं बाली के भय से जब मारा-मारा फिर रहा था, तब पूरी पृथ्वी पर कहीं शरण न मिली...। बस इसी चक्कर में मैंने पूरी पृथ्वी छान मारी और इसी दौरान मुझे सारे भूगोल का ज्ञान हो गया।’’

अब अगर सुग्रीव पर यह संकट न आया होता तो माता जानकी को खोजना कितना कठिन हो जाता। अनुकूलता भोजन है, प्रतिकूलता विटामिन है और चुनौतियां वरदान हैं और जो उनके अनुसार व्यवहार करें वहीं पुरुषार्थी हैं।’’

अर्थात : अगर आज मिले सुख से आप खुश हैं और कभी अगर कोई दुख विपदा, अड़चन आ जाए तो घबराएं नहीं। क्या पता, वह अगले किसी सुख की तैयारी हो।

PunjabKesari Ramayana

एक दिन आप पढ़ेंगे कि आज कोरोना के कारण कोई नहीं मरा। एक दिन हम देखेंगे कि हमारे बच्चे फिर से स्कूल जा रहे हैं। एक दिन हम फिर देखेंगे भी और सबके गले मिलेंगे तथा शादियों और समारोहों में एक साथ नाचेंगे भी। हम सबको उसी दिन का इंतजार है। हमें बस अपने आप को प्रेरित करना है कि दूसरों की मदद किस प्रकार करें। या कम से कम हम कुछ भी न करें तो गलत अफवाह या बुरी खबरों को न फैलाएं।

PunjabKesari Ramayana

किसी शायर ने कहा है : 
दिल न उम्मीद नहीं, नाकाम ही तो है।
लम्बी है गम की शाम, मगर शाम ही तो है।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Recommended News