ब्रह्मज्ञान को जानना और उसे प्रतिपल जीना वास्तविक मुक्ति है : माता सुदीक्षा

punjabkesari.in Thursday, Aug 18, 2022 - 08:53 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

नई दिल्ली (ब्यूरो): संत निरंकारी मिशन के प्रमुख सदगुरू सुदीक्षा जी महाराज ने कहा कि ब्रह्मज्ञान को जीवन का आधार बनाकर निरंकार से जुड़े रहना और मन में उसका प्रतिपल स्मरण करते हुए, सेवा भाव को अपनाकर जीना ही वास्तविक भक्ति है। पुरातन संतों एवं भक्तों का जीवन भी ब्रह्मज्ञान से जुड़कर ही सार्थक हो पाया हैं। मिशन की ओर से आयोजित ‘मुक्ति पर्व’ समागम के अवसर पर लाखों की संख्या में एकत्रित विशाल जन-समूह को सम्बोधित करते हुए सत्गुरू माता ने कहा कि ब्रह्मज्ञान को जानना ही मुक्ति नहीं अपितु उसे प्रतिपल जीना ही वास्तविक मुक्ति है। यह अवस्था निरंकार को मन में बसाकर उसके रंग में रंगकर ही संभव है क्योंकि ब्रह्मज्ञान की दृष्टि से जीवन की दशा एवं दिशा एक समान हो जाती है।

PunjabKesari मुक्ति पर्व, Mukti Parv Samagam, Mukti Parv, Nirankari Vichar Satguru Mata Sudiksha, Sant Nirankari Mission, Nirankari Mission, Nirankari samagam, sant nirankari mandal, satguru mata sudiksha ji, satguru mata sudiksha ji maharaj

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं। अपनी जन्म तिथि अपने नाम, जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

उन्होंने कहा कि जीवन में आत्मिक स्वतंत्रता के महत्व को सदगुरू माता ने उदाहरण सहित बताया कि जिस प्रकार शरीर में जकड़न होने पर उससे मुक्त होने की इच्छा होती है उसी प्रकार हमारी आत्मा तो जन्म जन्म से शरीर में बंधन रूप में है और इस आत्मा की मुक्ति केवल निरंकार की जानकारी से ही संभव है। 

PunjabKesari मुक्ति पर्व, Mukti Parv Samagam, Mukti Parv, Nirankari Vichar Satguru Mata Sudiksha, Sant Nirankari Mission, Nirankari Mission, Nirankari samagam, sant nirankari mandal, satguru mata sudiksha ji, satguru mata sudiksha ji maharaj

जब हमें अपने निज घर की जानकारी हो जाती है तभी हमारी आत्मा मुक्त अवस्था को प्राप्त कर लेती है। उसके उपरांत ब्रह्मज्ञान की दिव्य रोशनी मन में व्याप्त समस्त नकारात्मक भावों को मिटाकर भयमुक्त जीवन जीना सिखाती है और तभी हमारा लोक सुखी एवं परलोक सुहेला होता है। ब्रह्मज्ञान द्वारा कर्मो के बंधनों से मुक्ति संभव है क्योंकि इससे हमें दातार की रजा में रहना आ जाता है। जीवन का हर पहलू हमारी सोच पर ही आधारित होता है जिससे उस कार्य का होना न होना हमें उदास या चिंतित करता है अत: इसकी मुक्ति भी निरंकार का आसरा लेकर ही संभव है।

PunjabKesari kundlitv


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News