आज करे लें इस मंत्र का जाप मां शैलपुत्री देंगी मनचाहा वरदान

2020-03-25T17:34:36.453

हिंदू धर्म में नवरात्रि के पर्व का बहुत महत्व माना गया है। कहते हैं कि माता के भक्तों को इस खास दिनों का बहुत ही इंतजार होता है और आज पहला नवरात्र है व इस दिन माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है। शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि माता भगवती की आराधना,संकल्प, साधना और सिद्धि का दिव्य समय है। यह तन-मन को निरोग रखने का सुअवसर भी होता है। नवरात्रि का प्रत्येक दिन देवी मां के विशिष्ठ रूप को समर्पित होता है और हर स्वरुप की उपासना करने से अलग-अलग प्रकार के मनोरथ पूर्ण होते हैं। नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है और साथ ही इस दिन जाप किए जाने वाले मंत्र के बारे में बताने जा रहे हैं।
PunjabKesari
मंत्र
वन्दे वाञि्छतलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम
वृषारूढां शूलधरां शैलपुत्री यशस्विनीम् ||
PunjabKesari
इस मंत्र के जाप से व्यक्ति को माता की आसीम कृपा तो मिलती ही है और साथ ही अगर जातक की कुंडली में चन्द्रमा निर्बल है, तो इस मंत्र के जाप से सब ठीक हो जाता है। देवी शैलपुत्री के हाथ में सुशोभित त्रिशूल जातक की कुंडली के छठे भाव जो कि शत्रुओं का भाव है, उसे निर्बल करता है, अत : शत्रुओं को परास्त करने के लिए भी मां शैलपुत्री की आराधना करनी चाहिए। मां के हाथ में उपस्थित कमल पुष्प, जातक की कुंडली के द्वादश भाव, जो की कुंडली का अंतिम भाव है का प्रतीक है, द्वादश भाव को भी बलिष्ठ करती हैं माता शैलपुत्री।


Lata

Related News