आज कर ले ये काम और पाएं हर कष्ट से आराम

11/19/2019 10:32:44 AM

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
आज अगहन मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि है और इस दिन काल भैरव जयंती मनाई जाती है। बता दें कि काल भैरव भगवान शिव का ही अंश है। शास्त्रों में काल भैरव भगवान शिव के रुद्र अवतार माने जाते हैं। इस दिन भैरव बाबा की पूजा विशेष रूप से की जाती है। कहते हैं कि इस दिन काले कुत्ते को रोटी खिलाने से सारे कष्ट दूर होते हैं। भैरव की पूजा करने से व्यक्ति को कभी कोई बुरी आत्मा, बुरी नजर या कोई भी तांत्रिक क्रिया बाल भी बांका नहीं कर सकती है। 
PunjabKesari
करें इन चीजों से श्रृंगार 
काल भैरव अष्टमी के दिन भैरव देवता का पूरा श्रृंगार करें। श्रृंगार में सिंदूर, सुगंधित तेल, लाल चंदन, चावल, गुलाब के फूल जनेऊ और नारियल शामिल करें। 

भैरव देवता का श्रृंगार कर विधि-विधान से पूजा करें और तिल-गुड़ का भोग लगाएं। वैसे भैरव को गुड़ और चने का भोग भी लगाया जाता है। 
PunjabKesari
भैरव देवता को सुगंधित धूपबत्ती और सरसों के तेल का दीपक जलाएं और भैरव मंत्र का जप करें-
धर्मध्वजं शङ्कररूपमेकं शरण्यमित्थं भुवनेषु सिद्धम्। 
द्विजेन्द्र पूज्यं विमलं त्रिनेत्रं श्री भैरवं तं शरणं प्रपद्ये।। 

इस मंत्र का जाप कम से कम 108 बार करें, इसके बाद भैरव भगवान के सामने धूप, दीप और कपूर जलाएं, आरती करें, प्रसाद ग्रहण करें।

उपाय 
काल भैरव जयंती के दिन सवा सौ ग्राम काले तिल, सवा 11 रुपए, सवा सौ ग्राम काले उड़द, सवा मीटर काले कपड़े में एक पोटली बनाकर भैरव नाथ के मंदिर में चढ़ाएं। 
PunjabKesari
भैरव बाबा को मदिरा का भोग लगाया जाता हैं, क्योंकि उन्हें मदिरा प्रिय है। इसलिए उनके निमित्त किसी कोढ़ी, भिखारी को मदिरा दान करें। 

काल भैरव अष्टमी के दिन सवा किलो जलेबी भैरव बाबा को चढ़ाएं। जलेबी का एक भाग कुत्तों को भी खिलाएं। इससे आपको आर्थिक लाभ होगा।


Lata

Related News