क्या केवल मृत्यु के समय ही किया जाता है, गरुड़ पुराण का पाठ ?

2020-01-18T14:16:09.427

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
हिंदू मान्यताओं के अनुसार गरुड़ पक्षियों के राजा और भगवान विष्णु के वाहन हैं। गरुड़ कश्यप ऋषि और उनकी दूसरी पत्नी विनता की संतान के रूप में जाने जाते हैं। एक बार गरुड़ ने भगवान विष्णु से, प्राणियों की मृत्यु, यमलोक यात्रा, नरक-योनियों तथा सद्गति के बारे में अनेक गूढ़ और रहस्ययुक्त प्रश्न पूछे। उस समय भगवान विष्णु ने गरुड़ की जिज्ञासा शांत करते हुए इन प्रश्नों का उत्तर दिया। गरुड़ के प्रश्न और भगवान विष्णु के उत्तर, इसी गरुड़ पुराण में संकलित किए गए हैं।सनातन धर्म में मृत्यु के बाद गरुड़ पुराण सुनने का विधान है।
PunjabKesari
गरुड़ पुराण में जिस प्रकार के नरक और गतियों के बारे में बताया गया है, क्या वे सत्य हैं?
गरुड़ पुराण में व्यक्ति के कर्मों के आधार पर दंड स्वरुप मिलने वाले विभिन्न नरकों के बारे में बताया गया है। परन्तु ये प्रतीकात्मक हैं, वास्तविक नहीं हालांकि ये बात जरूर है कि उसी तरह के परिणाम वास्तविक जीवन में भुगतने पड़ने हैं और ये परिणाम वास्तविक तथा मानसिक होते हैं।
Follow us on Twitter

गरुड़ पुराण के अनुसार कौन सी चीजें व्यक्ति को सद्गति की ओर ले जाती हैं?
तुलसी पत्र और कुश का प्रयोग व्यक्ति को मुक्ति की ओर ले जाता है। संस्कारों को शुद्ध रखने से और भक्ति से व्यक्ति के दुष्कर्म के प्रभाव समाप्त होते हैं तथा व्यक्ति मुक्ति तक पहुंच जाता है। जल तथा दुग्ध का दान करना भी व्यक्ति के कल्याण में सहायक होता है। गुरु की कृपा से भी व्यक्ति के दंड शून्य होते हैं और व्यक्ति सद्गति की ओर जाता है।
Follow us on Instagram
PunjabKesari
क्या गरुड़ पुराण का पाठ केवल किसी की मृत्यु के समय ही करना चाहिए? क्या गरुड़ पुराण केवल भय पैदा करता ? 
गरुड़ पुराण का पाठ अगर भाव समझकर किया जाय तो सर्वोत्तम होता है, इसका पाठ कभी भी कर सकते हैं।  वैसे अमावस्या को इसका पाठ करना सबसे ज्यादा उत्तम होता है इसका भाव समझने पर यह बिलकुल भी भय पैदा नहीं करता। गरुड़ पुराण के भाव को समझने के लिए इसके साथ गीता भी जरूर पढ़ें।


Lata

Related News