Ramayan: जानें, कौन है ईश्वर का Favourite

punjabkesari.in Tuesday, Jun 28, 2022 - 10:09 AM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ

Who is gods favorite person: कठोपनिषद के अनुसार परमात्मा न तो प्रवचन सुनने से मिलता है, न बुद्धि के गाम्भीर्य से, न वेद पढ़ने से प्राप्त होता है वरन् जिसे वह वरण करता है, अपनाता है उसी को ही वह प्राप्त होता है।

PunjabKesari Who is the Favourite Son of God, How does it feel to be God's Fav, गोस्वामी तुलसीदास जी, रामचरितमानस, who is gods favorite person, he used to be gods favorite, how does it feel to be god's favorite meaning in hindi

गोस्वामी तुलसीदास जी भी रामचरितमानस में यही कहते हैं कि जिसे आप अपना ज्ञान कराते हैं, उसी को आपका ज्ञान होता है।  
तात्पर्य यह है कि हम जप-तप आदि अहंकारपूर्वक कार्य न करें तथा यह न समझें कि हमने इतना व्रत, तप आदि किया है तो ईश्वर को अपना साक्षात्कार कराना ही पड़ेगा, क्योंकि परमात्मा साधक एवं उसके द्वारा किए गए तप आदि से परे हैं।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

PunjabKesari kundlitv

व्यवहार में भी हम देखते हैं कि प्राय: आदमी थोड़ा-सा भी दान, व्रत, सेवा करता है तो उसे अहंकार आ जाता है। जो बात साधारण आदमी को भी अच्छी नहीं लगती तो ईश्वर को कैसे अच्छी लग सकती है।

भावार्थ है कि हमसे जब जप, तप, व्रत, दान, यज्ञ आदि होता है तो उस समय यह समझना चाहिए कि परमात्मा आज मुझ पर प्रसन्न हैं जो मुझे उन्होंने ऐसी सद्बुद्धि और अवसर दिया, बल्कि वह स्वयं ही यह सब कर रहे हैं। मैं केवल प्राणी मात्र हूं। यही परमार्थिक सत्य भी है।

 

PunjabKesari Who is the Favourite Son of God, How does it feel to be God's Fav, गोस्वामी तुलसीदास जी, रामचरितमानस, who is gods favorite person, he used to be gods favorite, how does it feel to be god's favorite meaning in hindi


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Niyati Bhandari

Related News

Recommended News