Chanakya Niti: किसी की नियत को हो परखना तो अपनाएं ये नुक्सा

punjabkesari.in Monday, Jun 27, 2022 - 04:36 PM (IST)

शास्त्रों की बात, जानें धर्म के साथ
चाणक्य नीति शास्त्र में मानव जीवन से जुड़ी कई बातें बताई है। कहा जाता है जो व्यक्ति अपने जीवन में इनकी नीतियों को अपनाता है वो बेहद सफल होकर निकलता है। इसकी सबसे बड़ी उदाहरण है चंद्रगुप्त मौर्य। जिन्होंने केवल चाणक्य के ज्ञान के बलबूते बर पूरे राज्य पर विजय प्राप्त की थी। तो चलिए एक जानते हैं आचार्य चाणक्य की कुछ महत्वपूर्ण नीतियां जिन्हें न केवल जानना बल्कि अपनाना भी आप के लिए लाभदायक साबित हो सकता है। बता दें चाणक्य नीति सूत्र में बताई गई इन बातों की प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में अहम भूमिका होती है। जो इन बातों पर अमल करता है उसका जीवन सफल हो जाता है।
PunjabKesari Chanakya Niti In Hindi, Chanakya Gyan, Chanakya Success Mantra In Hindi, चाणक्य नीति-सूत्र, Acharya Chanakya, Chanakya Niti Sutra, Dharm

आचार्य चाणक्य ने कहा है कि किसी इंसान की अच्छाई देखनी हो तो उससे सलाह लो। कई बार इंसान सामने वाले को वही सलाह देता है जो वो खुद आजमाता है। वहीं कई बार वो सामने वाले को ऐसी सलाह देता है जो प्रैक्टिकल तौर पर मुनासिब ना हो।

1100  रुपए मूल्य की जन्म कुंडली मुफ्त में पाएं । अपनी जन्म तिथि अपने नाम , जन्म के समय और जन्म के स्थान के साथ हमें 96189-89025 पर वाट्स ऐप करें

किसी के गुण देखने हो तो उसके साथ भोजन करो। आचार्य चाणक्य का कहना है कि अगर आपको किसी के गुण देखने हो तो उसके साथ खाना खाओ। खाना खाते वक्त इंसान को कई मायनों पर जज किया जा सकता है। अगर उसने खाना खुद बनाया है तो खाना कैसा बनाया है, खाना परसने का तरीका और खाना किस तरह से खा रहा है आप सब कुछ जज कर सकते हैं।
PunjabKesari Chanakya Niti In Hindi, Chanakya Gyan, Chanakya Success Mantra In Hindi, चाणक्य नीति-सूत्र, Acharya Chanakya, Chanakya Niti Sutra, Dharm
किसी की आदत देखनी हो तो उसे सम्मान दो। आचार्य के इस कथन का अर्थ है कि अगर किसी की आदत देखनी हो तो उसे सम्मान दो। आपको ये पता चल जाएगा कि सामने वाला उस सम्मान के लायक है कि नहीं।

किसी की नियत देखनी हो तो उसे कर्ज दो। आचार्य चाणक्य का कहना है कि अगर आपको किसी की नियत देखनी हो उसे सही तरीके से जानने का एक ही तरीका है और वो है उसे कर्ज देना। कई बार लोग कर्ज तो ले लेते हैं लेकिन तय समय सीमा पर नहीं देते हैं। कई बार लोग कर्ज लेकर भूल ही जाते हैं कि उन्हें किसी का पैसा वापस लौटाना है। इसी वजह से आचार्य चाणक्य ने कहा कि किसी की अच्छाई देखनी हो तो उससे सलाह लो, किसी के गुण देखने हों तो उसके साथ भोजन करो, किसी की आदत देखनी हो तो उसे सम्मान दो और किसी की नियत देखनी हो तो उसे कर्ज दो।

PunjabKesari


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Jyoti

Related News

Recommended News